MP EDUCATION: NAS (National Achievement Survey)

0
4046
NAS राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वे
National Achievement Survey

National Achievement Survey

NAS (National Achievement Survey) : राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण

NAS (National Achievement Survey) : राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण क्या है?

NAS (National Achievement Survey) : राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण विद्यालय का शिक्षा स्तर सुधारने के लिए राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधानऔर प्रशिक्षण परिषद (NCERT ) द्वारा विकसित एक सर्वेक्षण कार्यक्रम है जिसके तहत कक्षा 3,5,8 और कक्षा  10 के छात्रों की सीखने के स्तर का मूल्यांकन हेतु परीक्षा आयोजित की जाती है।

NAS (National Achievement Survey) : राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण विद्यालय का शिक्षा स्तर सुधारने के लिए राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधानऔर प्रशिक्षण परिषद (NCERT ) द्वारा विकसित एक सर्वेक्षण कार्यक्रम है जिसके तहत कक्षा 3,5,8 और कक्षा 10 के छात्रों की सीखने के स्तर का मूल्यांकन हेतु परीक्षा आयोजित की जाती है।

प्रथम बार यह है राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण NAS (National Achievement Survey) 13 नवम्बर 2017 को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधानऔर प्रशिक्षण परिषद (NCERT ) द्वारा चयनित विद्यलयो में ही किया गया था। २०१७ में प्राथमिक स्तर पर राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण में कक्षा 3,5 और 8 के लिए जिसमे कक्षा 3 और 5 के लिए हिंदी, गणित , पर्यावरण तथा कक्षा 8 के लिए हिंदी, गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान के लिए यह परीक्षा आयोजित की गयी।

वर्तमान समय में राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण (NAS ) में कक्षा 10 को भी शामिल कर लिया गया है , तथा पहले की तरह चयनित विद्यलयो में ही नहीं बल्कि देश भर के सभी राजकीय विद्यलयो और राजकीय सहायता प्राप्त विद्यलयो में यह मूल्यांकन सर्वेक्षण किया जाता है।

फरवरी, 2018 को पूरे देश में 10वी कक्षा के लिए सर्वेक्षण किया गया था। पूरे देश में सरकारी सहायता प्राप्त और निजी स्कूलों में आकलन किया गया था। इसमें अंग्रेजी, गणित समेत ५ विषयो का मूल्यांकन किया गया था।

यह कार्यक्रम शैक्षिक मूल्यांकन तथा उपलब्धि स्तरदोनों प्रकार का है। इस सर्वेक्षण में पांच विषयो भाषा , सामाजिक विज्ञान, गणित , विज्ञान और पर्यावरण अध्ययन की उपलब्धि की जांच की जाती है।

राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण (नेशनल अचीवमेंट सर्वे)(NAS) का उद्देश्य:

  • शिक्षा संबंधी योजना निर्माण और गुणात्मक सुधार में मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए
  • देश के सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त विद्यलयो में में पढ़ रहे बच्चे किस विषय में कमजोर है तथा कुन से विषय की पाठ्यवस्तु उंन्हे नहीं आती है , यह जानने के लिए कक्षा 3,5,8 और 10 के बच्चो का मूल्यांकन करना है।
  • बच्चो के सीखने के स्तर में गुणात्मक सुधार लाने के लिए
  • राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण की आवश्यकता शिक्षा प्रणाली की दक्षता को समझने के लिए
  • यह पता लगाना की बच्चो ने सीखने के प्रतिफल की संप्राप्ति कहा तक की है। इसलिए ही नेशनल अचीवमेंट सर्वेक्षण के लिए राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधानऔर प्रशिक्षण परिषद (NCERT ) द्वारा प्रश्न पत्रों का निर्माण सीखने के प्रतिफल पर आधारित होता है।

सीखने के प्रतिफल (LEARNING OUTCOME) :

NAS (National Achievement Survey) : राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण सीखने के प्रतिफल का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है NAS (National Achievement Survey) के अंतर्गत यह पता लगाया जाता है कि बच्चो ने सीखने के प्रतिफल की संप्राप्ति कहा तक की है।इसलिए ही नेशनल अचीवमेंट सर्वेक्षण के लिए राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधानऔर प्रशिक्षण परिषद (NCERT ) द्वारा प्रश्न पत्रों का निर्माण सीखने के प्रतिफल पर आधारित होता है।

विद्यालयों में अध्यनरत छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर कई नए प्रयास किये जाते है.  इन सबका उद्देश्य विद्यालयी छात्रों में शैक्षिक गुणवत्ता का विकास और अच्छी उपलब्धि स्तर को हासिल करना  होता है.  जिससे छात्रों के समग्र मूल्यांकन के माध्यम से विकास की एक निश्चित योजना बनाकर उनका उन्नयन किया जा सके .

वास्तव में, सीखना एक सतत व व्यापक जीवन पर्यंत चलने वाली प्रक्रिया है.

यह भी पढ़े :-

सीखने के प्रतिफल (LEARNING OUTCOME)

अधिक जानकारी प्राप्त करने कि लिए आवेदक हमारी वेबसाइट http://enterhindi.com/की मदद ले सकते है |

अगर आपको ये Article अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने friends और family के साथ भी जरूर Share करे |

अगर आपको  कोई Problem आ रही हो तो आप हमसे निचे दिए गए comment box में पूछ सकते है | EnterHindi Team आपकी जरूर Help करेगी |

इसी तरह से जानकारी रोज पाने के लिए EnterHindi को follow करे FacebookTwitter पर और Subscribe करे YouTube Channel को |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here