राजस्थान सरकार ने मुख्यमंत्री जल स्वाबलंबन अभियान के चतुर्थ चरण की शुरुआत की

0
3314

मुख्यमंत्री जल स्वाबलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan):-

राजस्थान सरकार ने महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) के चौथे चरण की शुरुआत की है | मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) का चौथा चरण उच्च तकनीक अनुप्रयोगों के उपयोग के साथ जलवायु परिवर्तन अनुकूलन और जल संचयन उद्देश्यों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा |

पिछले 3 चरणों में, कुल 16,345 गांव कवर किए गए हैं, काम को पूरा करने की लागत 4,35,869 लगी है जिसके लिए कुल दान 67,30,83,183 रुपये प्राप्त किया गया है | अभियान राज्य विभागों, गैर सरकारी संगठनों (NGO), कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) के तहत जमा राशि का उपयोग जल संचयन और संरक्षण कार्यों को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा |

पानी की आपूर्ति का स्थायी समाधान खोजने के लिए और सूखे से गांवों को बचाने के लिए तथा पानी की आपूर्ति में स्वयं को पर्याप्त बनाने के लिए वाटरशेड में वृद्धि की जाएगी | ग्राम सभा द्वारा अनुमोदित कार्यों की प्राथमिकता पर जिला स्तर समिति की मंजूरी के बाद जिला कलेक्टर मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) के तहत प्राप्त राशि को प्रशासनिक और वित्तीय प्रतिबंध को जारी करेगा   |

मुख्यमंत्री जल स्वाबलंबन अभियान के लाभ:-

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) जनवरी 2016 में शुरू किया गया एक मल्टी-स्टेकहोल्डर कार्यक्रम था जिसका लक्ष्य पानी की बुनियादी निर्भरता के साथ गांवों को पीने का पानी, घरेलू और जीवन के लिए जल की आवश्यकताओं पर विशेष जोर देना है |

विभिन्न विभागों की योजनाओं के अभिसरण के माध्यम से जल भंडारण संरचनाओं का निर्माण, पुरानी संरचनाओं का पुनरुद्धार, Watershed विकास, जल संरक्षण गतिविधियों का आयोजन किया जाता है | मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) की महत्वपूर्ण विशेषताएं इस प्रकार हैं:-

  • गांवों को पानी के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना और “उत्कृष्टता का द्वीप” बनाना |
  • यह 4 वर्ष का कार्यक्रम है जहां प्रत्येक चरण एक वर्ष का होता है |
  • अभियान के तहत कार्य लोगों की भागीदारी के माध्यम से किया जा रहा है |
  • NGO, Corporate House, धार्मिक ट्रस्ट, अनिवासी ग्रामीणों, सामाजिक समूहों आदि जैसे कई स्रोतों से वित्तीय संसाधनों को इकट्ठा किया जाएगा |
  • प्रौद्योगिकी के उपयोग से वाटरशेड दृष्टिकोण पर low water harvesting structures का निर्माण किया जाएगा |

इस मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) के परिणामस्वरूप आत्म-जल के संबंधित गांवों का उदय होगा | भूजल स्तर में वृद्धि, पेयजल की उपलब्धता, सिंचित और खेती योग्य क्षेत्र में वृद्धि होगी |

मुख्यमंत्री जल स्वाबलंबन अभियान का चतुर्थ चरण:-

राजस्थान सरकार ने 3 अक्टूबर 2018 को मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) के चौथे चरण को शुरू करने की घोषणा की है | यह अभियान राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में जल संचयन और संरक्षण के लिए है यह राजस्थान के लगभग 4,000 गांवों को कवर करेगा | मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (Mukhyamantri Jal Swavlamban Abhiyan) जल संरक्षण का एक उदाहरण है क्योंकि इस अभियान की शुरूआत के बाद से राज्य के भूजल स्तर में वृद्धि हुई है |

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बताया कि राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने अन्य राज्यों में भी इस योजना के कार्यान्वयन की सिफारिश की है | नीति आयोग ने भी राष्ट्रीय जल सूचकांक रिपोर्ट में इस योजना का विशेष संदर्भ दिया है | केंद्रीय कृषि मंत्रालय दुसरे राज्यों को मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (MJSA) पर प्रस्तुतिकरण देने के लिए आमंत्रित कर रहा है ताकि अन्य राज्य भी इसे लागू कर सकें | मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (MJSA) के परिणामस्वरूप भूजल स्तर में 4.66 फीट की वृद्धि हुई है | मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान (MJSA) के तहत कवर किए गए गांवों में 63% hand pump और 20% tube well संशोधित किए गए हैं |

अभियान के चौथे चरण में लगभग 4,000 गांवों में विभिन्न जल भंडारण संरचनाएं प्रस्तावित किए जाने का प्रस्ताव है | मुख्यमंत्र जल स्वावलंबन अभियान (MJSA) के पिछले 3 चरणों में, लगभग 12,056 गांवों में 3.80 लाख से अधिक जल भंडारण संरचनाएं बनाई जा चुकी हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here