कोरोनावायरस : जानिए क्या है होम क्वारंटाइन ?

0
1802
क्वारंटाइन क्या है
quarantine kya hai

क्वारंटाइन क्या है? होम क्वारंटाइन (Home Quarantine):-

क्वारंटाइन क्या हैकोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच इसे बचाव के कई उपाय सामने आ रहे हैं | अगर किसी व्यक्ति में कोरोना के संक्रमण दिख रहे हैं तो उसके लिए एक बेहतरीन उपाय होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) भी है | होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) का मतलब घर पर अपने आप को दूसरे लोगों से अलग कर लेना है। अगर आपको कोरोना वायरस से संक्रमित होने का संदेह है या फिर सर्दी-जुकाम लगा हुआ है तो आप एक कमरे में अपने आप को अलग कर लें | इससे आपके परिवार में किसी को वायरस नहीं फैलेगा |

क्वारंटाइन लैटिन मूल का शब्द है | इसका मूल अर्थ चालीस दिन का समय है | दरअसल, पुराने समय में जिन जहाजों में किसी यात्री के रोगी होने या जहाज पर लदे माल में रोग प्रसारक कीटाणु होने का संदेह होता तो उस जहाज को बंदरगाह से दूर चालीस दिन ठहरना पड़ता था | ग्रेट ब्रिटेन में प्लेग को रोकने के प्रयास के रूप में इस व्यवस्था की शुरुआत हुई थी | कोरोना वायरस से बचाव को लेकर घर में खुद को क्वारंटाइन करने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को दिशा-निर्देश जारी किए हैं |

क्वारंटाइन क्या है?

अपने आप को घर पर कैसे करें क्वारंटाइन:- क्वारंटाइन क्या है?

अभी तक के मामलों को देखते हुए एक्सपर्ट्स का मानना है कि होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) वायरस को फैलने से रोकने में काफी अहम साबित हुआ है | अगर आप लोगों को जरा सा भी शक हो तो घर पर 14 दिन के लिए आप लोग होम क्वारंटाइन (Home Quarantine) अपना सकते हैं | अगर ये दिन ठीक निकल जाते हैं तो आप दोबारा से अपनी नॉर्मल लाइफ जी सकते हैं |

  • होम क्वारंटाइन के लिए एक हवादार कमरा हो, जिसमें टॉयलेट भी हो |
  • अगर उस कमरे में अन्य परिजन हो, तो दोनों में एक मीटर की दूरी हो |
  • दोनों शख्स घर के अन्य बुजुर्गों, गर्भवतियों और बच्चों से दूर रहें |
  • वायरस संदिग्ध मरीज किसी भी समारोह, शादी, पार्टी में 14 दिन या जब तक स्वस्थ न हो जाएं तब तक हिस्सा न लें |
  • साबुन से हाथ धोएं और अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनेटाइजर का इस्तेमाल करें |
  • घर में खुद से पानी, बर्तन, तौलिए और अन्य किसी चीज को न छुएं |
  • सर्जिकल मास्क लगाकर रहें | हर 6-8 घंटे में मास्क बदलें | इनका निस्तारण सही से करें |
क्वारंटाइन क्या है?

होम क्वारंटाइन व्यक्ति के परिजनों के लिए दिशा निर्देश:-

  • घर का कोई एक सदस्य ही ऐसे व्यक्ति की देखभाल करे |
  • ऐसे व्यक्ति की त्वचा के सीधे संपर्क में आने से बचें |
  • घर को साफ करने के लिए दस्ताने पहनें | उन्हें उतारने के बाद हाथों को अच्छे से धोएं |
  • घर में किसी बाहरी व्यक्ति को न आने दें |
  • होम क्वॉरंटाइन व्यक्ति में लक्षण नजर आए तो 14 दिनों तक सभी नजदीकी संपर्क बंद कर दें | ऐसा तब तक करें जब तक रिपोर्ट निगेटिव न आ जाए |
  • होम क्वॉरंटाइन व्यक्ति के कमरे के फर्श और हर चीज को एक फीसदी सोडियम हाइपोक्लोराइट सोल्यूशन से साफ करें |
  • इसके अलावा टॉयलेट को भी रोज रेगुलर हाउसहोल्ड ब्लीच से साफ करें |

इन स्वास्थ्य उपायों का पालन भी जरूर करें-

  • साबुन और पानी या फिर एल्कोहल आधारित सैनटाइजर से अपने हाथ साफ करें |
  • घर के सामान को किसी से शेयर ना करें, जैसे- बर्तन, पानी पीने का गिलास, कप, तौलिया, पलंग आदि |
  • हर समय सर्जिकल मास्क लगाकर रखें, मास्क को हर 6-8 घंटे में बदलें |
  • किसी अन्य शख्स द्वारा इस्तेमाल किए गए मास्क को ना पहनें |
  • अगर किसी एक मास्क को फेंकना है तो उसे जला दें या फिर मिट्टी में दबा दें |
  • घर में मरीज, उसकी देखभाल करने वाले और उसके संपर्क में आने वाले लोगों को मास्क पहनना है | मास्क पूरी तरह साफ होना चाहिए। इसे सामान्य ब्लीच सल्यूशन (5 फीसदी) और सोडियम हाइपोक्लोराइट सल्यूशन (1 फीसदी) से साफ करें |
  • इस्तेमाल किया हुआ मास्क भी संक्रमित माना जाता है |
  • अगर लक्षण दिखें जैसे- खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं | इसके अलावा 011-23978046 नंबर पर फोन करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here