मुकुल आर्य कौन थे? जिनकी फिलिस्‍तीन में मौत हुई?

0
1077
मुकुल आर्य कौन थे
मुकुल आर्य कौन थे

मुकुल आर्य (Mukul Arya):-

रविवार को, फिलिस्तीन के लिए भारत के प्रतिनिधि, मुकुल आर्य, रामल्लाह में भारतीय दूतावास के अंदर मृत पाए गए | मुकुल आर्य 2008 बैच के भारत विदेश सेवा (IFS) अधिकारी थे | फिलिस्‍तीन में भारत के प्रतिनिधि मुकुल आर्य (Mukul Arya) की अचानक मौत की खबर से देश सकते में है | उनकी मृत्यु का कारण अभी भी अज्ञात है |

मुकुल आर्य विदेश मंत्रालय में डिप्लोमैट थे | आर्य पेरिस में यूनेस्को में भारत के स्थायी प्रतिनिधिमंडल और काबुल और मॉस्को में भारत के दूतावासों में सेवा दे चुके थे | इसके अलावा उन्‍होंने दिल्ली में मंत्रालय में भी सेवाएं दी थीं |

Mukul Arya दिल्‍ली में पले-बढ़े थे | जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) से उन्‍होंने 2005-2007 में इकनॉमिक्‍स में MA किया | दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से उन्‍होंने ग्रेजुएशन किया था | 2008 में वह भारतीय विदेश सेवा (IFS) से जुड़ गए | आर्य की गिनती बेहद होनहार अफसरों में की जाती थी |

भारतीय विदेश सेवा से जुड़ने के बाद भी आर्य की पढ़ाई लिखाई में दिलचस्‍पी बनी हुई थी | 2019-2020 में मुकुल ने ली कुआन यू स्‍कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी से मास्‍टर्स इन पब्लिक एडमिनिस्‍ट्रेशन (Masters in Public Administration) किया था | 2017 से 2019 के बीच मुकुल आर्य ने विदेश मंत्रालय के इकनॉमिक डिप्‍लोमेसी डिवीजन में सेवाएं दीं |

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शोक जताया:-

“Deeply shocked to learn about the passing away of India’s Representative at Ramallah, Shri Mukul Arya. He was a bright and talented officer with so much before him. My heart goes out to his family and loved ones. Om Shanti.”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने उनकी असमय मौत पर गहरा शोक प्रकट किया | उन्‍होंने ट्वीट शेयर कर बताया कि मुकुल आर्य के गुजर जाने की खबर से उनको झटका लगा | वह युवा और बेहद प्रतिभावान ऑफिसर थे जिन्‍हें बहुत कुछ देखना बचा था | जयशंकर ने आर्य के परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की | मंत्रालय ने कहा कि वह मुकुल आर्य के पार्थिव शरीर को भारत वापस लाने की व्यवस्था करने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय के साथ अपने आधिकारिक संपर्क कर रहा है |

मौत की वजह सामने नहीं आई:-

आपको जानकारी के लिए बता दें कि मुकुल आर्य के निधन की वजह सामने नहीं आई है | वे भारत और फिलीस्तीन के संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए लगातार सक्रिय थे | जनवरी में मुकुल आर्य फिलीस्तीन के शिक्षा निदेशालय के साथ मिलकर स्वच्छता पखवाड़ा मनाया था | इसी दौरान उन्होंने वहां के स्कूल का दौरा करके दोनों देशों में सांस्कृतिक संबंधों को आगे बढ़ाने पर चर्चा की थी |

मुकुल आर्य वर्ष 2008 में भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए इससे पहले उनका पालन-पोषण और शिक्षा दिल्ली में हुई | उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) और जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (Jawaharlal Nehru University) में इकॉनमी की पढाई की थी | उन्होंने यूनेस्को, काबुल और मॉस्को भारत के दूतावासों में भारत के स्थायी प्रतिनिधिमंडल में सेवा करने के अलावा दिल्ली में विदेश मंत्रालय में भी काम किया है |

Frequently Asked Questions (FAQs):-

मुकुल आर्य कौन थे?

फिलिस्तीन के लिए भारत के प्रतिनिधि

मुकुल आर्य किस बैच के भारत विदेश सेवा (IFS) अधिकारी थे |

2008 बैच के

मुकुल आर्य ने क्या पढाई की?

मुकुल आर्य दिल्‍ली में पले-बढ़े थे | जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) से उन्‍होंने 2005-2007 में इकनॉमिक्‍स में MA किया | दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से उन्‍होंने ग्रेजुएशन किया था | 2008 में वह भारतीय विदेश सेवा (IFS) से जुड़ गए |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here