Sanchar Saathi Portal: अब गुम हुए मोबाइल ब्लॉक और ट्रैक कैसे करे? जाने यहाँ पर…

0
678
Sanchar Saathi Portal

Sanchar Saathi Portal: अगर आपका मोबाइल फोन कहीं खो गया है तो अब परेशान होने की जरूरत नहीं है. आप घर बैठे अपने मोबाइल फोन को ब्लॉक कर सकते हैं. सरकार का ये पोर्टल आपकी मदद करेगा |

वर्ल्ड टेलिकॉम डे से एक दिन पहले आज यानी मंगलवार (16 मई) को टेलिकॉम मंत्री अश्विनी वैष्णव ने संचार साथी पोर्टल लॉन्च किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि जब कोई भी इस पोर्टल पर मोबाइल खोने की जानकारी देगा, तो इसके बाद कुछ आइडेंटिटी वैरिफिकेशन होंगे।

उसके तुरंत बाद ऑनलाइन टेलिकॉम ऑपरेटर और लॉ एन्फोर्समेंट एजेंसी के साथ इंटरैक्ट करके यह पोर्टल फोन को ब्लॉक कर देगा।

वैष्णव ने कहा कि केवल सिम को ब्लॉक कर देना कोई सॉल्यूशन नहीं है, फोन को ब्लॉक करना जरूरी होता है। इसके साथ ही इस पोर्टल के जरिए कोई भी यह चेक कर सकता है कि उसके नाम से कितनी सिम चालू हैं। अगर आपको इसमें ऐसा कोई नंबर दिखाई देता है जो आपने नहीं लिया है तो उसे भी ब्लॉक करा सकता हैं।

चोरी किए गए मोबाइल को यूज करना नहीं होगा आसान :

रेल और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव (IT Minister Ashwini Vaishnaw) ने 16 मई को संचार साथी पोर्टल को लॉन्च (Sanchar Saathi Portal Launched) किया.

इस पोर्टल के जरिए आप अपने खोए हुए मोबाइल नंबर को ब्लॉक और अनब्लॉक कर सकते हैं. ऐसे में अगर अब चोरी किए गए मोबाइल का इस्तेमाल करना आसान नहीं रहेगा.

इस पोर्टल पर आप खोए हुए मोबाइल को आसानी से शिकायत दर्ज करा पाएंगे. इसके साथ ही उसे अब ट्रैक करने में भी मदद मिलेगी. ध्यान देने वाली बात ये है कि चोरी हुए मोबाइल के बारे में संचार साथी पोर्टल पर जानकारी दर्ज करवाने पर मोबाइल ऑपरेटर को इसकी जानकारी मिल जाएगी.

इसके बाद उस मोबाइल के मिलने की खबर अपडेट होने के बाद इसे चालू किया जाएगा. इस पोर्टल के जरिए आपको यह भी पता चलेगा कि एक आईडी पर कुल कितने सिम कार्ड जारी किए गए हैं|

IMEI नंबर बदलने पर भी ट्रैक हो सकेगा फोन :

अभी क्रिमिनल्स ज्यादातर मोबाइल चोरी करने के बाद डिवाइस का IMEI नंबर बदल देते हैं, जिसके कारण मोबाइल ट्रैक या ब्लॉक नहीं हो पाता था। राजकुमार उपाध्याय ने बताया कि ये पोर्टल IMEI नंबर बदलने के बाद भी डिवाइस को ट्रैक और ब्लॉक कर सकेगा।

पोर्टल की मदद से बरामद हुए 8000 फोन :

संचार साथी पोर्टल के अनुसार, अब तक इस पोर्टल के माध्यम से 4.81 लाख से अधिक खोए या चोरी हुए मोबाइल को ब्लॉक किया जा चुका है।

इसके साथ ही 2.43 लाख से अधिक मोबाइल को ट्रैक किया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अब तक इस पोर्टल की मदद से 8 हजार फोन बरामद किए जा चुके हैं।

चोरी किए गए मोबाइल को कैसे करें ब्लॉक:

STEP 1: अगर आपका मोबाइल चोरी हो गया है और आपके उसे दुरुपयोग से बचाने के लिए ब्लॉक करना चाहते हैं तो https://sancharsaathi.gov.in/ पर क्लिक करें.

Sanchar Saathi Portal

STEP 2: इसमें Citizen Centric Services को चुनें |

Sanchar Saathi Portal

STEP 3: यहां आपको Block Your Lost/Stolen Mobile का विकल्प दिखेगा जिस पर क्लिक करें|

Sanchar Saathi Portal

STEP 4: इस ऑप्शन को चुनने के बाद ही आपके सामने एक पेज खुलेगा जहां आपको मोबाइल से संबंधित जानकारी दर्ज करनी होगी |

STEP 5: आपको दोनों मोबाइल नंबर, 15 डिजिट का दोनों IMEI नंबर दर्ज करना होगा |

STEP 6: इसके साथ ही आपको डिवाइस मॉडल और मोबाइल का इनवॉइस भी अपलोड करना होगा |

STEP 7: फिर आपको मोबाइल खोने की तारीख, टाइम, जिला और राज्य की जानकारी भी फिल करना होगी |

STEP 8: इसके साथ ही आपको पुलिस में दर्ज की गई शिकायत नंबर, पुलिस स्टेशन का लोकेशन, राज्य और जिले का नाम भी दर्ज करना होगा |

STEP 9: पुलिस शिकायत की कॉपी अपलोड कर दें यहां |

STEP 10 : फिर अपनी पर्सनल जानकारी जैसे नाम, एड्रेस, ईमेल जैसी जानकारी दर्ज कर दें

STEP 11 : आखिरी में Disclaimer को चुनें और फॉर्म सब्मिट कर दें

STEP 12: इस फॉर्म को जमा होने के बाद आपके फोन को ब्लॉक कर दिया जाएगा |

STEP 13 : इस के जरिए आप फोन को ट्रैक भी कर सकते हैं |

टेलीकॉम क्षेत्र में फ्रॉड को रोकने की कोशिश :

इस पोर्टल को लॉन्च करते वक्त आईटी टेलीकॉम और रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि देश में डिजिटल इंडिया के मिशन को बढ़ाने और टेलीकॉम यूजर्स की सेफ्टी को सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने संचार सारथी पोर्टल शुरू किया है.

इसके जरिए चोरी हुए मोबाइल को ब्लॉक करने के लिए सीईआईआर (Central Equipment Identity Register) की शुरुआत की गई ह. अब यूजर्स यह भी जान सकेंगे कि उनके आई़डी और नाम पर कितने सिम रजिस्टर्ड है.

इसके अलावा एएसटीआर (Artificial Intelligence and Facial Recognition powered Solution for Telecom SIM Subscriber Verification) का इस्तेमाल करके फर्जी सिम यूजर्स की भी पहचान की जा सकेगी. पोर्टल के लॉन्च पर अश्विनी वैष्णव ने जानकारी दी कि कुल 40 लाख फर्जी मोबाइल कनेक्शन की पहचान की गई है |

Go to Homepage

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here