International Labour Day 2022: कब एवं क्यों मनाया जाता है मजदूर दिवस, एवं मजदूर दिवस पर शायरी मैसेज

0
2962
Labour Day 2020
Labour Day 2020, मजदूर दिवस 2020 के बारे में जानकारी

International Labour Day 2022:- क्यों 1 मई बन गया छुट्टी का दिन, जानें इसके पीछे की कहानी

International Labour Day 2022– मजदूर दिवस यानी 1 मई का दिन जिस दिन हम मज़दूरों को याद करते हैं वैसे उनको तो रोज़ याद करना चाइये सोचिये अगर वो न हों तो हमारा क्या होता हमारे इतने सारे काम कैसे होते कौन हमारे सब काम करता। हर साल 1 मई को दुनिया भर में ” अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस”, श्रम दिवस या मई दिवस (International Labour Day) मनाया जाता है। इसे पहली बार 1 मई 1886 को मनाया गया था। भारत में इसे सबसे पहले 1 मई 1923 को मनाया गया था। जब लेबर किसान पार्टी ऑफ हिन्दुस्तान ने चेन्नई में इसकी शुरुआत की थी।

कैसे हुई मजदूर दिवस की शुरुआत?

यह एक आंदोलन के तौर पर शुरू किआ गया था। साल 1877 में मजदूरों ने अपने काम के घंटे तय करने की अपनी मांग को लेकर एक आंदोलन शुरू किया। जिसके बाद एक मई 1886 को पूरे अमेरिका में लाखों मजदूरों ने एकजुट होकर इस मुद्दे को लेकर हड़ताल की। इस हड़ताल में लगभग 11 हजार फैक्ट्रियों के 3 लाख 80 हजार मजदूर शामिल हुए।

इस हड़ताल के बाद साल 1889 में पेरिस में आयोजित एक अंतरराष्ट्रीय महासभा की दूसरी बैठक में फ्रेंच क्रांति को ध्यान में रखते हुए एक प्रस्ताव पास किया गया। इस प्रस्ताव में अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाए जाने की बात स्वीकार की गई। इस प्रस्ताव के पास होते ही अमेरिका में सिर्फ 8 घंटे काम करने की इजाजत दे दी गई।

Labour Day 2020

जिसके बाद पहली मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाने की शुरूआत हुई। भारत में मजदूर दिवस की शुरुआत चेन्नई में 1 मई 1923 में हुई। भारत में लेबर किसान पार्टी ऑफ हिन्दुस्तान ने 1 मई 1923 को मद्रास में इसकी शुरुआत की थी।

भारत में मजदूर दिवस: International Labour Day 2022

भारत में इसे पहली बार 1 मई 1923 को मनाया गया था। इसकी शुरुआत लेबर किसान पार्टी ऑफ हिन्दुस्तान के नेता कामरेड “सिंगरावेलू चेट्यार” ने की थी। जब उनकी अध्यक्षता में मद्रास हाईकोर्ट के सामने मजदूर दिवस मनाया गया। उस समय से हर साल देशभर में मजदूर दिवस मनाया जाता है।

भारत में मजदूरों की जंग लड़ने के वाले कई बड़े नेता उभरे, इन सबमें सबसे बड़ा नाम दत्तात्रेय नारायण सामंत उर्फ डॉक्टर साहेब का है। डॉक्टर साहेब के नेतृत्व में ग्रेट बॉम्बे टेक्सटाइल स्ट्राइक हुआ, जिसने पूरे मुंबई के कपड़ा उद्योग को हिला कर रख दिया था। जिसके फलस्वरूप बॉम्बे औद्योगिक कानून 1947 का निर्माण हुआ। इसके अलावा जॉर्ज फर्नांडिस भी बड़े मजदूर नेता थे। जॉर्ज फर्नांडिस के नेतृत्व देश में व्यापक रूप से रेल हड़ताल हुई। इन्हीं आंदोलनों से उभरकर वह राष्ट्रीय राजनीति में आए। उनका नाम आपातकाल के दौरान क्रांति करने वाले बड़े नेताओं में गिना जाता है।  

आज ही के दिन दुनिया के मजदूरों के अनिश्चित काम के घंटों को 8 घंटे में तब्दील किया गया था। मजदूर वर्ग इस दिन पर बड़ी-बड़ी रैलियों व कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक संगठन (ILO) द्वारा इस दिन सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। कई देशों में मजदूरों के लिए कल्याणकारी योजनाओं की घोषणाएं की जाती है। टीवी, अखबार, और रेडियो जैसे प्रसार माध्यमों द्वारा मजदूर जागृति के लिए कार्यक्रम प्रसारित किए जाते हैं।

International Labour Day 2022 मजदूर दिवस पर शायरी मैसेज

अगर इस जहां में मज़दूर का न नामों-निशां होता,
फिर न होता हवा महल और न ही ताज महल होता !!!
मज़दूर दिवस की शुभकामनाएं!

मजदूर ऊँचाई की नींव हैं गहराई में हैं पर अंधकार में क्यूँ उसे तुच्छ ना समझाना,वो देश का गुरुर हैं।

सफलता के मार्ग में योगदान अनमोल हैं
चाहे हो मालिक या कोई नौकर
कोई ईकाई तुच्छ नहीं
सबका अपना मान हैं
कहने को एक छोटा लेबर ही सही
पर उसी को रास्ते का ज्ञान हैं
घमंड ना करना इस ऊंचाई का कभी
तेरे कंधो पर इनके पसीने का भार हैं

Labour Day 2020

किसी को क्‍या बताएं कि कितने मजबूर हैं हम, 
बस इतना समझ लीजिए कि मज़दूर हैं हम !! 

मैं मजदूर हूँ मजबूर नहीं
यह कहने मैं मुझे शर्म नहीं
अपने पसीने की खाता हूँ
मैं मिट्टी को सोना बनाता हूँ

हर कोई यहाँ मजदूर हैं
चाहे पहने सूट बूट या मैला
मेहनत करके कमाता हैं
कोई सैकड़ा कोई देहला
हर कोई मजदूर ही कहलाता हैं
चाहे अनपढ़ या पढ़ा लिखा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here