Indirect Tax | अप्रत्यक्ष कर

0
4345

Indirect Tax :-

अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) सरकार intermediary द्वारा जैसे manufacturer या retailer से एकत्रित किया जाने वाला एक प्रकार का कर है | कर का अंतिम भार उन उपभोक्ताओं पर पड़ता है जो intermediary से सामान और सेवाओं को खरीदते हैं क्योंकि intermediary उत्पाद पर Value Added Tax (VAT), service tax, sales tax आदि के रूप में अप्रत्यक्ष कर लागू करते हैं |

इन करों को अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह कर intermediaries के माध्यम से सरकार द्वारा उपभोक्ताओं से indirectly एकत्र किया जाता है | ये कर प्रत्यक्ष करों (direct taxes) जैसे आयकर से अलग हैं, जो करदाताओं से सीधे जमा कराए जाते हैं |अप्रत्यक्ष करों (Indirect Tax) में Sales Tax, Service Tax, VAT आदि शामिल हैं |

प्रत्यक्ष करों (Direct Taxes) के विपरीत, अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) व्यक्तियों के बजाय वस्तुओं और सेवाओं पर लगाए जाते हैं | व्यक्ति वस्तु को उच्च मूल्य के रूप में खरीद कर अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) का भुगतान करते हैं | एक फुटकर विक्रेता (retailer) आपको किसी उत्पाद को अप्रत्यक्ष कर लगा कर बेचता है, जो प्रासंगिक tax-collection authorities को दिया जाता है |

Indirect Tax की विशेषताएं :-

  • अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) उपभोक्ताओं के लिए एक intermediary द्वारा बेची गई वस्तुओं और सेवाओं पर लगाया गया |उपभोक्ता वस्तुओं की ऊंची कीमत के रूप में खरीद कर tax का भुगतान करते हैं |
  • इसे वस्तुओं की बिक्री, वस्तुओं का आयात/ निर्यात, सेवाओं की पेशकश और वस्तुओं का निर्माण जैसी श्रेणियों में विस्तृत रूप से विभाजित किया गया है |
  • अप्रत्यक्ष कर उपभोक्ताओं को उत्पादों की वास्तविक बिक्री के बजाय, वस्तु और सेवाओं की मंजूरी पर लगाया जाता है | इसका मतलब यह है कि मध्यस्थ उत्पाद शुल्क का भुगतान करेगा ताकि वो वस्तुओं और सेवाओं को उपभोक्ताओं को बेच सकें |
  • अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) के विशिष्ट प्रकार के अप्रत्यक्ष कर के अनुसार केंद्रीय और राज्य सरकारों दोनों के अधीन हैं | उदाहरण के लिए, VAT राज्य सरकार द्वारा लगाया जाता है, जबकि CST केंद्र सरकार द्वारा लगाया जाता है |

Indirect Taxes के प्रकार :-

अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) एक व्यापक श्रेणी है जिसके तहत विभिन्न प्रकार के अप्रत्यक्ष कर आते हैं | वस्तुओं और सेवाओं के अनुसार इसकी 4 मूल उप-श्रेणियां हैं :-

  • Service tax
  • Sales  tax
  • Excise duties
  • VAT

Service Tax :

Service Tax आम तौर पर 12.36% से 14% तक की दर से लागू होता है, जो अप्रैल 2015 संशोधित किया गया है | इस प्रकार का अप्रत्यक्ष कर service tax provider द्वारा लगाया जाता है और सेवाओं के प्राप्तकर्ता द्वारा भुगतान किया जाता है | हालांकि, कुछ मामलों में कर को सेवा प्रदाता और सेवा प्राप्तकर्ता के बीच विभाजित किया जाता है |

यदि अंतिम कीमत सेवाओं और सामग्री का मिश्रण है जैसे रेस्तरां का बिल तो Service tax में कमी का भी प्रावधान है |
आम तौर पर, रेस्तरां बिल के 40% पर Service tax लगाया जाता हैं क्योंकि कुल राशि के 60% को सामग्री की लागत माना जाता है | Service tax केंद्र सरकार के दायरे में आता है |

Sales  Tax :

Sales Tax वस्तु और सेवाओं की बिक्री के लिए शासकीय निकायों को भुगतान करने वाला कर का एक रूप है | Sales Tax एक अप्रत्यक्ष कर होता है जो आमतौर पर उत्पाद के मूल्य के प्रतिशत के रूप में कर योग्य वस्तुओं की खरीद या विनिमय पर लगाया जाता है | Sales Tax सरकार द्वारा लागू की गई व्यक्तिगत नीतियों पर निर्भर करता है आम तौर पर गणना और जमा करने के लिए इसे सरल रखा जाता है। सरल शब्दों में, वस्तु या सेवाएं खरीदने के दौरान Sales Tax के रूप में एक अतिरिक्त राशि का भुगतान किया जाता है |

Total Sales Tax = Cost of item x Sales tax rate

Excise duty :

यह कर कुछ वस्तुओं पर उनके उत्पादन या sale catering या लाइसेंस के लिए विशिष्ट सेवाओं पर लगाया जाता है | Excise duty एक inland tax है, जो custom duty के विपरीत है | इसके अलावा यह अप्रत्यक्ष कर का ही एक रूप है | अप्रत्यक्ष कर आम तौर पर एक retailer या intermediary  द्वारा इकट्ठा किए जाते हैं जो अंततः customer के रूप में कर का भुगतान करने की जिम्मेदारी लेता है | फिर माल के निर्माता सरकार को इस कर का भुगतान करते है | यह राशि VAT और Sales tax का आबकारी है जिसे उपभोक्ताओं पर वस्तु खरीदते समय चार्ज किया जाता है |

Excise duty, Excise Duty Act, 1944 के तहत आता है | राज्य सरकार narcotics, alcohol या alcoholic products जैसे कुछ सामानों पर duty charge लगाती है, अन्य सामानों पर duty charge केंद्र सरकार द्वारा एकत्र किया जाता है, इसलिए इसे ‘Central Excise Duty’ कहा जाता है |हालांकि सरकार द्वारा कर तब एकत्र किया जाता है जब माल कारखाने से निकाला जाता है और प्रेषण किया जाता है |

VAT :

जब वस्तुओं को अंततः उपभोक्ता को बेचा जाता है तो वस्तु और सेवाओं की बिक्री पर VAT एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर लगा होता है |VAT किसी भी देश की GDP का अभिन्न अंग है |

VAT वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री पर लगाया जाता है जिसका भुगतान उत्पादकों द्वारा सरकार को किया जाना चाहिए लेकिन वास्तविक कर ग्राहकों पर लगाया जाता है जो इन वस्तुओं और सेवाओं को खरीदते हैं | इस प्रकार, यह कर का एक अप्रत्यक्ष रूप है जो सरकार को ग्राहकों द्वारा वस्तु और सेवाओं के उत्पादकों के माध्यम से दिया जाता है | VAT एक बहु-स्तरीय कर है जिसे वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के प्रत्येक चरण पर लगाया जाता है, जिसमें बिक्री / खरीद भी शामिल है |

Indirect Taxes के लाभ :-

  • Convenience : अप्रत्यक्ष करों का भुगतान करदाता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से सरकार को किया जाता है, वो भी उन वस्तुओं और सेवाओं के माध्यम से जिनका वे उपभोग करते हैं | कर की इस प्रकृति के कारण, उपभोक्ताओं को महसूस नहीं होता की वे सरकार को इस राशि का भुगतान कर रहे हैं | अप्रत्यक्ष करों में भुगतान थोड़ी मात्रा में किया जाता है और वो भी तब जब आप कुछ वस्तुओं और सेवाओं को खरीदते है | इसके अलावा यह कर उत्पाद की कीमत का ही एक हिस्सा है उससे अलग नहीं है, इसलिए जब भी उत्पाद खरीदा जाएगा इस कर का भुगतान करना होगा |
  • Hard to evade : आमतौर पर ज्यादातर लोग अवैध तरीकों के माध्यम से करों का भुगतान करने से बच जाते हैं | हालांकि, अप्रत्यक्ष करों की अवधारणा के माध्यम से, इसकी चोरी करना बहुत मुश्किल है | क्योंकि अप्रत्यक्ष कर का भुगतान ग्राहक द्वारा सरकार को नहीं किया जाता है बल्कि वस्तु या सेवा के विक्रेता को  किया जाता है जिससे वह खरीद रहे हैं और ये लागत उत्पाद की वास्तविक कीमत का हिस्सा होती हैं |
  • Coverage and Elasticity : प्रत्यक्ष करों के विपरीत,अप्रत्यक्ष करों के अंतर्गत बड़ी संख्या में वस्तुएं और सेवाएं आती हैं  इसलिए व्यक्तियों के पास इस कर का भुगतान करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रहता है | जब भी सरकार को राजस्व में वृद्धि की जरूरत होती है, तो इन करों में वृद्धि की जाती है, क्यूँकि अप्रत्यक्ष कर सरकार को बहुत अधिक राजस्व प्रदान करते हैं |
  • Universality and Influence : वस्तुओं और सेवाओं की खरीद पर अप्रत्यक्ष करों का भुगतान प्रत्येक वर्ग द्वारा करना पड़ता है | चाहे वह समाज के किसी भी वर्ग से आते हों और चाहे उनकी आर्थिक स्थिति कैसी भी हो |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here