Diwali 2022: दिवाली को सही तरीके से कैसे मनाएं? आइये जानते हैं (How to celebrate Diwali)

0
475
Diwali Whatsapp Status

हेलो दोस्तों ,दिवाली मनाने का मजा ही अलग है क्योंकि यह हमारे देश का सबसे बड़ा त्योहार है। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि दिवाली कैसे मनाएं, यानी दिवाली को सही तरीके से कैसे मनाया जाए। इस त्योहार का मजा दोगुना करने के लिए दिवाली मनाने का सही तरीका जानना बेहद जरूरी है। क्योंकि यह एक ऐसा त्योहार है जिसमें सुरक्षा पर ध्यान देना जरूरी है। सबसे पहले आपको बता दें कि इस बार दिवाली 24 अक्टूबर 2022 को है। यह त्योहार इतना खास है कि हम 2-3 महीने पहले से ही इसका इंतजार करने लगते हैं।

दिवाली खुशियों का त्योहार है और इसके आने की खुशी में हम अपनी सारी चिंताएं भूल जाते हैं। शायद ही कोई इंसान होगा जो इस दिन भी खुश नहीं होगा। दिवाली पर तरह-तरह के पटाखे फोड़ते हैं, इसीलिए हम यहां आपको बताने जा रहे हैं कि दिवाली को सुरक्षित तरीके से कैसे मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दुनिया में दो त्यौहार हैं जो सबसे बड़े हैं और जिन पर लोग फलते-फूलते हैं। एक है कृष्णमाश और दूसरी है दिवाली। वैसे तो साल में कई त्यौहार होते हैं, लेकिन उन्हें मनाने की खुशी उस दिन तक ही सीमित रहती है। लेकिन दिवाली एक ऐसा त्योहार है जिसे लोग 10-15 दिन पहले से ही खुश महसूस करने लगते हैं। दिवाली जैसे-जैसे नजदीक आती है, हमारा उत्साह बढ़ता जाता है। यह एक ऐसा त्योहार है जिसके लिए कई दिन पहले से ही प्लानिंग शुरू हो जाती है।

दिवाली कैसे मनाएं?

दिवाली की रात अमावस्या की रात है और देवी लक्ष्मी का त्योहार है। हम सभी का मानना ​​है कि इस दिन हमारे घर में लक्ष्मी माता विराजमान होती हैं। तो सबसे पहले जो चीज सबसे पहले आती है वो है घर की साफ-सफाई। ऐसी मान्यता है कि जिस घर में गंदगी होती है उस घर में लक्ष्मी माता नहीं आती है। इसलिए दिवाली पर अपने घर को बेहद साफ-सुथरा बनाना हमारा पहला काम है। यही कारण है कि लोग इस त्योहार के आने के 10-12 दिन पहले से ही अपने घर की सफाई शुरू कर देते हैं। घर की साफ-सफाई का भी व्यक्ति के मन से बड़ा संबंध होता है। घर को साफ-सुथरा रखने से परिवार के हर सदस्य का मन प्रसन्न रहता है, जिससे इस पर्व की खुशियां और भी बढ़ जाती हैं।

उसके बाद खरीदने का समय है। इस त्योहार के लिए हमें बहुत सी चीजें खरीदनी पड़ती हैं। क्योंकि दिवाली का बच्चों को भी खास इंतजार रहता है। इस दिन पटाखे जलाने और नए कपड़े पहनने का उनका विशेष उत्साह होता है। इसलिए बच्चों के लिए सबसे पहले खरीदारी करना जरूरी है ताकि वे खुश रहें। बच्चे खुश होंगे तो त्योहार मनाने का मजा दोगुना हो जाएगा। आप बच्चों को उनकी पसंद के पटाखे दे सकते हैं, लेकिन यह भी जरूरी है कि आप उन्हें समझाएं कि दिवाली को सुरक्षित तरीके से कैसे मनाया जाए। बच्चों को बड़े और खतरनाक पटाखे या बम न दें। इसके अलावा आप उन्हें बताएं कि पटाखे कैसे जलाएं।

फिर नए कपड़ों का समय है। दिवाली पर बच्चे नए कपड़े नहीं पहनते हैं तो दिवाली की तैयारी अधूरी लगती है। इसलिए बच्चों के लिए यह भी जरूरी है कि वे उस दिन पहनने के लिए नई ड्रेस खरीदें। उसके बाद आपको दिवाली पूजा का सामान और किचन में बने बर्तनों की खरीदारी करनी होगी। माता लक्ष्मी के फोटो से फल, सजावट, मोमबत्ती, दीये, हल्की स्कर्ट, चांदी के सिक्के और सभी प्रकार की मिठाइयां खरीदनी होती हैं। यह काम आप दिवाली के दिन सुबह से दोपहर तक कभी भी कर सकते हैं।

diwali

अब आपकी दिवाली की तैयारी पूरी हो गई है। अब हमें यह जानना होगा कि दिवाली को सही तरीके से कैसे मनाया जाए। अब हम सीधे दिवाली के दिन पर आते हैं। आजकल डिजिटल युग है, इसलिए जैसे ही आप उस दिन जागते हैं, अपने सभी दूर के रिश्तेदारों और दोस्तों को व्हाट्सएप या फेसबुक के माध्यम से हैप्पी दिवाली का संदेश भेजें। आपके परिवार के सदस्यों को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ और बड़ों के पैर छूकर आशीर्वाद लें। इसके बाद अपने घर को सजाना शुरू करें। आप जो भी साज-सामान लाए हैं, उसका उपयोग करके घर को रोशन करें। दोपहर तक आपका काम हो जाना चाहिए। इसके बाद आपके जो भी छोटे-छोटे काम हों, उन्हें पूरा करें।

पूजा की प्रक्रिया पूरी होने के बाद, आपके द्वारा खरीदे गए मोमबत्तियों और दीयों को जलाएं और उन्हें अपने घर में माउंट और अन्य सभी स्थानों पर रखें। कोई भी ऐसा कोना न छोड़ें जहां अंधेरा हो। ऐसा करने से आपके घर में चमक आएगी और आपको सुखद अनुभूति होगी। यह सब करने के बाद पकवान खाने का समय आ गया है। घर में बने अलग-अलग व्यंजनों को चखकर दिवाली मनाएं। घर के सभी सदस्यों को आराम से खाना चाहिए और दिवाली का आनंद लेना चाहिए। अब बारी है दिवाली के असली मजे की।

यानी पटाखे फोड़कर खुशियां मना रहे हैं. पटाखों, बर्तनों के बिना दीपावली का त्योहार बेहद नीरस लगता है। कुछ लोग इस दिन पटाखे नहीं जलाने की सलाह देते हैं, प्रदूषण होता है। अरे भाई, पटाखों के बिना दिवाली कैसे मनाऊं? प्रदूषण कम करने में अब 364 दिन बचे हैं, है न? पेड़ लगाओ, कारखानों पर प्रतिबंध लगाओ, प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाओ या यातायात पर प्रतिबंध लगाओ। आप जो कुछ भी करें, इस दिन हमें यह ज्ञान न दें। दीपावली पटाखे फोड़कर खुशियां मनाने का त्योहार है। हां, लेकिन पटाखे फोड़ते समय आपको कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। सबसे पहले तो हम यही कहेंगे कि जब बच्चे पटाखे फोड़ें तो उनके साथ रहें। उनका ख्याल रखना और उन्हें बताते रहना। इसके अलावा इस बात का ध्यान रखें कि जहां आप पटाखे जला रहे हैं वहां कोई नहीं आ रहा है

दीपावली पूजन का सही तरीका –

वैसे कई बड़े परिवारों में दिवाली पूजा का स्तर बहुत बड़ा होता है। यानी उनकी दिवाली पूजा का तरीका आम लोगों से अलग होता है. क्योंकि वे पूजा के लिए अधिक सामग्री भी लाते हैं और किसी प्रतिष्ठित पंडित से पूजा की प्रक्रिया भी करवा सकते हैं। लेकिन हम यहां सामान्य वर्ग के लोगों के लिए बताएंगे कि कैसे सही तरीके से पूजा करके दीपावली मनाएं। सबसे पहले आप जो लक्ष्मी जी की तस्वीर लाए हैं उसे स्थापित करें। यानी जिस स्थान पर आप पूजा करना चाहते हैं उस स्थान की दीवार पर इसे लगाएं या चिपका दें।

उसी फोटो में गणेश जी की तस्वीर भी है। अब जो भी पूजा सामग्री आपके पास फोटो के आसपास उपलब्ध हो उसे अपने पास रख लें। ध्यान रहे कि यह सब करने से पहले पूजा स्थल को पूरी तरह से साफ कर लें और हाथों को अच्छी तरह धो लें। हम सामान्य लोग पूजा सामग्री में ज्यादा रखे बिना चावल, फल (जैसे सेब या केला), केक, मखाना, दीये, तेल, चांदी के सिक्के, सिंदूर, मिठाई और कलश का ढेर रखते हैं। ध्यान रहे कि आपको देवी लक्ष्मी के चित्र के ठीक सामने चावल का ढेर लगाना है।

आपको कलश को उसी चावल के ढेर पर रखना है। आपको चावल के ढेर के बाएँ और दाएँ भाग में सेब या केला जैसे फल रखने हैं और उनमें अगरबत्ती डालनी है। वही पैसे और कुछ गहने पास के घर में रखना चाहिए। दिवाली का आनंद लेने के लिए आप जो भी मिठाई लाए हैं, उसे वहीं रखें और जो व्यंजन आपने बनाए हैं उनमें से 1-2 व्यंजन भी लाएं। क्योंकि जो पकवान आपने बनाया है, उसे सबसे पहले देवी लक्ष्मी और गणेश को अर्पित करना जरूरी है।

इसके साथ ही एक बड़ी थाली में सारे दीपक जलाकर उस थाली में कुछ पैसे रख दें. अब दिवाली पूजा की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इसलिए घर के सभी सदस्यों को वहीं पूजा के लिए बुलाएं। सबसे पहले आप अपने द्वारा देवी लक्ष्मी के फोटो के सामने जो बड़ा दीया रखा है उसे जलाएं। इसके बाद आपने जो अगरबत्ती लगाई थी, उसे जलाएं। घर के सभी सदस्यों को तिलक लगाएं और देवी लक्ष्मी की कहानी पढ़ना शुरू करें। कथा के बाद सभी सदस्य हाथ मिलाकर मां लक्ष्मी की आरती गाते हैं। अब बारी है मां लक्ष्मी का तिलक करने और उन्हें भोग लगाने की।

सबसे पहले फोटो में मौजूद देवी लक्ष्मी को टीका लगाएं और उसके बाद सभी व्यंजन और मिठाइयां चढ़ाएं। यह सब करने के बाद आप सभी हाथ जोड़कर देवी लक्ष्मी से प्रार्थना करें और उन्हें बताएं कि आपको क्या चाहिए। अंत में कलश में मौजूद जल को तुलसी के पौधे में डालना है। तो यह थी लक्ष्मी पूजन की सही विधि, जो आम लोगों के लिए उत्तम है। इस तरह आप देवी लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकते हैं और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। तो आप समझ ही गए होंगे कि दिवाली कैसे मनाई जाती है।

निष्कर्ष –

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आज इस आर्टिकल के माध्यम से आप लोगों को दिवाली को सही तरीके से कैसे मनाएं और सही तरीके से पूजा कैसे करे इन सभी चीज़ो की जानकारी मिल गई होगी। दोस्तों फिर भी, अगर आप हमसे इस आर्टिकल से जुड़े कुछ सवाल हमसे पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हमारी टीम आपका जवाब जरूर देगी , कृपया अपने दोस्तों के साथ जरूर इस आर्टिकल को साझा करे ताकि उनको भी यह जानकारी मिल सके धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here