History of Ukraine: यूरोप का दूसरा सबसे बड़ा लेकिन सबसे गरीब देश है यूक्रेन जानें कैसा है यूक्रेन का इतिहास?

0
671
History of Ukraine

यूक्रेन का इतिहास (History of Ukraine):-

यूक्रेन में रूस का हमला जारी है | यूक्रेन पर आक्रमण से पहले रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन को एक फर्जी देश के रूप में वर्णित किया और कहा कि इसका कोई इतिहास, पहचान नहीं है | पुतिन के अनुसार, आधुनिक यूक्रेन पूरी तरह से रूस द्वारा बनाया गया था | यहां हम आपको यूक्रेन के इतिहास के बारे में बताएंगे |

यूक्रेन यूरोप के पूर्व में है और इसके उत्तर-पूर्व, पूर्व और दक्षिण-पूर्व में रूस और दक्षिण में काला सागर है | दक्षिण-पश्चिम, पश्चिम और उत्तर में, यूक्रेन मोल्दोवा, रोमानिया, हंगरी, स्लोवाकिया, पोलैंड और बेलारूस के साथ सीमाएं साझा करता है |

यह रूस के बाद यूरोप का सबसे बड़ा देश है, जिसका क्षेत्रफल 603,550 वर्ग किमी या महाद्वीप का लगभग 6% है | यूक्रेन निश्चित रूप से रूस के सामने काफी छोटा है | रूस 4 मिलियन वर्ग किमी और यूरोप के 40% हिस्से में फैला है |

जुलाई 2021 में यूक्रेन की जनसंख्या 43.7 मिलियन आंकी गई थी | इसमें से 77.8% यूक्रेनी जातीयता के थे और 17.3% रूसी थे | रूसी बोलने वाले ज्यादातर पूर्व में रहते हैं, जो रूस के साथ सीमा के करीब है | यहां रूसी सरकार ने आठ साल तक सशस्त्र विद्रोह को प्रोत्साहित करने और बनाए रखने के बाद इस सप्ताह दो राज्यों की स्वतंत्रता को मान्यता दे दी |

सकल घरेलू उत्पाद (GDP) और प्रति व्यक्ति सकल राष्ट्रीय आय के मामले में यूक्रेन यूरोप का सबसे गरीब देश है | इसमें लौह अयस्क और कोयले का भंडार है, और मक्का, सूरजमुखी तेल, लौह और लौह उत्पादों और गेहूं का निर्यात करता है |

यूक्रेन 1922 से 1991 तक रूस का हिस्सा था जब मास्को सोवियत संघ या सोवियत समाजवादी गणराज्य संघ की राजधानी था | इसे सोवियत संघ (SU) के रूप में भी जाना जाता था | उस चरण के दौरान USSR दुनिया का सबसे बड़ा देश था |

सोवियत संघ कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा शासित एक दलीय राज्य था | USSR के दूसरे सबसे बड़े गणराज्य यूक्रेन ने 1991 में अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की |

यूक्रेन के आजादी के बाद का इतिहास:-

  • 1991- सोवियत रिपब्लिक ऑफ यूक्रेन के नेता लियोनिड क्रैवचुक (Leonid Kravchuk) ने मास्को से आजाद होने की घोषणा की. क्रैवचुक (Kravchuk) राष्ट्रपति चुने गए|
  • 1994 : राष्ट्रपति चुनाव में लियोनिड कुचामा ने क्रैवचुक को पराजित किया |
  • 1999 : अनियमितताओं के आरोपों के बीच कुचामा फिर राष्ट्रपति चुने गए |
  • 2004 : रूस समर्थक विक्टर यानुकोविच (Viktor Yanukovich) को राष्ट्रपति चुना गया, लेकिन धांधली के आरोपों के बाद फिर चुनाव कराए गए | पश्चिम समर्थक पूर्व प्रधानमंत्री विक्टर युशचेंको राष्ट्रपति निर्वाचित हुए |
  • 2005 : युशचेंको (Yushchenko) ने सत्ता संभाली और यूक्रेन को क्रेमलिन के प्रभाव से निकालने और नाटो व यूरोपीय यूनियन की ओर बढ़ने का वादा किया |
  • 2008 : नाटो ने वादा किया कि एक दिन यूक्रेन गठबंधन का सदस्य होगा |
  • 2010 : इस साल हुए राष्ट्रपति चुनावों में यानुकोविच (Yanukovich) ने राष्ट्रपति पद हासिल किया | यूक्रेन के काला सागर बंदरगाह में रूसी नौसेना को लीज के बदले में दोनों देशों के बीच गैस मूल्य समझौता हुआ |
  • 2013 : यानुकोविच सरकार ने यूरोपीय यूनियन के साथ व्यापार वार्ता स्थगित की और मास्को के साथ आर्थिक संबंध बहाल करने का विकल्प चुना |
  • 2014 : हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद संसद ने यानुकोविच को पद से हटाया | डोनबास के पूर्वी क्षेत्र में रूस समर्थित अलगाववादियों ने आजादी की घोषणा की | पश्चिम समर्थित एजेंडे के साथ बिजनेसमैन पेट्रो पोरोशेंको (Petro Poroshenko) ने राष्ट्रपति चुनाव जीता | इसी साल एम्सटरडम से कुआलालंपुर जा रहे एक यात्री विमान एमएच17 ईएन को मिसाइल से मार गिराया गया | जांचकर्ताओं ने रूस पर अंगुली उठाई, लेकिन उसने इन्कार किया |
  • 2017 : यूक्रेन और यूरोपीय यूनियन के बीच एसोसिएशन एग्रीमेंट | इससे वस्तुओं और सेवाओं के मुक्त व्यापार के लिए बाजार खुले और वीजा मुक्त यात्रा मुमकिन हुई |
  • 2019: पूर्व हास्य अभिनेता वोलोडिमीर जेलेंस्की (Volodymyr Zelenskiy) ने पोरोशेंको (Poroshenko) को राष्ट्रपति चुनाव में पराजित किया | पूर्वी यूक्रेन में युद्ध खत्म करने का वादा किया |
  • 2021 : जेलेंस्की ने बाइडन से अपील की कि वह यूक्रेन को नाटो में शामिल होने दें | यूक्रेन में क्रेमलिन समर्थक विपक्षी नेता विक्टर मेडमेडचुक पर जेलेंस्की सरकार ने प्रतिबंध लगाए | रूस ने यूक्रेन सीमा पर सैन्य जमावड़ा बढ़ाया | इसी साल अक्टूबर में यूक्रेन ने पहली बार पूर्वी सीमा पर तुर्किश बेरक्टर टीबी2 ड्रोन का इस्तेमाल किया | इस पर रूस ने नाराज होकर सैन्य जमावड़ा बढ़ाना शुरू कर दिया | दिसंबर में यूक्रेन पर हमला करने की दशा में बाइडन ने रूस को आर्थिक प्रतिबंधों की चेतावनी दी |
  • जनवरी 2022: अमेरिका और रूस के राजनयिक यूक्रेन पर मतभेदों को कम करने में असफल रहे | रूसी बलों का बेलारूस पहुंचना शुरू हो गया और तनाव लगातार बढ़ता गया |
  • फरवरी 2022: तनाव घटाने के लिए वैश्विक स्तर पर कूटनीतिक प्रयास किए जा रहे हैं |  रूस ने यूक्रेन के हिस्सों, डोनेस्क और लुहांस्क को अलग देश की मान्यता दे दी है | इस पर फिलहाल संयुक्त राष्ट्र परिषद में बैठक जारी है |

यूक्रेन पर रूस की बमबारी सोमवार को पांचवें दिन भी जारी है | दूसरी तरफ, इस टकराव को रोकने और रूस पर दबाव बनाने की कोशिशें भी चल रही हैं | इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के स्पेशल इमरजेंसी सेशन में भेजने के लिए सोमवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में वोटिंग हुई | प्रस्ताव के पक्ष में 11 और विपक्ष में 1 वोट पड़ा | भारत, चीन और UAE ने फिर वोटिंग से दूरी बनाए रखी |

Frequently Asked Questions (FAQs):-

यूक्रेन रूस से कब अलग हुआ?

1991 में यूक्रेन सोवियत संघ से अलग हुआ था |

यूक्रेन में कौन से धर्म के लोग रहते हैं?

इस देश का प्रमुख धर्म ईसाई है। यहां ईसाई धर्म के लोग बहुसंख्यक हैं | यहां दूसरे नंबर पर मुस्लिम लोग रहते हैं

यूक्रेन की आधिकारिक भाषा क्या है?

यूक्रेन की आधिकारिक भाषा यूक्रेनी है |

यूक्रेन की राजधानी क्या है?

कीव या किएव यूक्रेन की राजधानी और प्रमुख शहर है |

यूक्रेन कितना बड़ा देश है?

यह रूस के बाद यूरोप का सबसे बड़ा देश है, जिसका क्षेत्रफल 603,550 वर्ग किमी या महाद्वीप का लगभग 6% है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here