Cryptocurrency क्या है? जानिए इससे जुडी पूरी जानकारी

0
1696
Cryptocurrency क्या है
Cryptocurrency hindi me

Cryptocurrency क्या है? ई-मुद्राओं के बारे में जानकारी।

क्या आपने पहले बिटकॉइन (Bitcoin) का नाम जरूर सुना होगा, और अगर नहीं सुना होगा, तो कोई बात नहीं है आज हमारे आर्टिकल Cryptocurrency क्या है? में आपको बिटकॉइन की भी जानकारी मिल जाएगी। जैसे जैसे चीज़ें आगे आरही हैं, और सभी चीज़ें ऑनलाइन होती जा रहीं हैं, उसी तरह से ही अब डिजिटल करेंसी मतलब Cryptocurrency भी चर्चित है, आज हम आपको इसी के बारे में कुछ जानकारी देने वाले हैं, तो आइये जानते हैं की Cryptocurrency क्या है? और कैसे काम करता है।

Cryptocurrency क्या है? What is Cryptocurrency in Hindi

Cryptocurrency एक तरह की डिजिटल पेमेंट है, इसमें पेमेंट मेथड पूरी तरह से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में किया जाता है। साइबर कैश कही जाने वाली इन मुद्राओं की चर्चा दुनिया भर में है। क्रिप्टोकोर्रेंसी को वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency) या डिजिटल करेंसी (Digital Currency) भी कहा जा सकता है। Cryptocurrency को आप न तो देख सकते हैं, न छू सकते हैं, क्योंकि भौतिक रूप में क्रिप्टो करेंसी का मुद्रण नहीं किया जाता। इसलिए इसे आभासी मुद्रा कहा जाता है। पिछले कुछ सालों में ऐसी करेंसी काफी प्रचलित हुई है।

किसी भी देश में लेनदेन के लिए जो नोट और सिक्के चलन में होते हैं उन्हें करेंसी कहते हैं। करेंसी या तो कागज की होती है या किसी धातु की। जैसे भारत में रुपये के नोट और सिक्के चलते हैं। हाल फिलहाल में वर्चुअल करेंसी की चर्चा है। मसलन, बिटकॉइन, नेमकाइन, लाइटकाइन, लिब्रा और पीपीकाइन, जैसी और भी कई हैं। इस तरह की वर्चुअल करेंसी को क्रिप्टोकरेंसी कहा जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी मुद्रा है जिसे डिजिटल माध्यम के रूप में निजी तौर पर जारी किया जाता है। यह क्रिप्टोग्राफी व ब्लॉकचेन जैसी डिस्ट्रीब्यूटर लेजर टेक्नोलॉजी (डीएलटी) के आधार पर काम करती है। आसानी से समझने के लिए ब्लॉकचेन एक ऐसा बहीखाता है जिसमें लेनदेन को ब्लॉक्स के रूप में दर्ज किया जाता है और क्रिप्टोग्राफी का इस्तेमाल कर उन्हें लिंक कर दिया जाता है।

क्रिप्टोकोर्रेंसी सिर्फ digital form में मौजूद होता है, और इसे ख़रीदा और बेचा भी ऑनलाइन किआ जाता है। डिजिटल करेंसी का उपयोग सिर्फ ऑनलाइन ही चीज़ों को खरीदने और बेचने के लिए यूज़ किआ जा सकता है, आप इसका इस्तेमाल ऑफलाइन चीज़ों के लिए यूज़ नहीं कर सकते हैं। इसका उपयोग आप सिर्फ ऑनलाइन ही कर सकते हैं।

क्रिप्टोकोर्रेंसी से आप बिना बैंक कर सकते हैं पेमेंट

इस वर्चुअल करेंसी का इस्तेमाल कर दुनिया के किसी कोने में किसी व्यक्ति को पेमेंट किया जा सकता है और सबसे खास बात यह है कि इस भुगतान के लिए किसी बैंक को माध्यम बनाने की भी जरूरत नहीं पड़ती। यह पीयर टू पीयर टेक्नोलॉजी पर आधारित होता है, जिसमे किसी भी फिजिकल करेंसी की की जरुरत नहीं पड़ती है, अब कहीं से भी इससे लेन देने कर सकते हैं।

आरबीआई के सर्कुलर को चुनौती देने के लिए इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। कोर्ट में सुनवाई के दौरान आईएएमएआई द्वारा कहा गया कि केंद्रीय बैंक के इस कदम से क्रिप्टोकरेंसी में होने वाली वैध कारोबारी गतिविधियों पर प्रभावी रूप से पाबंदी लग गई है, जिसके जवाब में आरबीआई ने कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया। आरबीआई ने कहा कि उसने क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से मनी लाउंड्रिंग और टेरर फंडिंग के खतरे के मद्देनजर यह कदम उठाया है।

सबसे पहली क्रिप्टो करेंसी

दुनिया की पहली क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) है। इसको जमा करना माइनिंग (Mining) कहलाता है। क्रिप्टो करेंसी को दुनिया के किसी भी कोने में आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है और किसी भी प्रकार की करेंसी में कनवर्ट किया जा सकता है जैसे डॉलर, यूरो, रूपया आदि। कम्प्यूटर नेटवर्कों के जरिए इस मुद्रा से बिना किसी माध्यम के ट्रांजेक्‍शन किया जा सकता है। वहीं, इस डिजिटल करंसी को डिजिटल वॉलेट में रखा जाता है, Digital Currencies बहौत सारे देशों में बैन कर दिए गए है, क्यू की इससे बहौत से अवैध काम हो रहे हैं.

निजी धन छुपाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है. कुछ अधिक धनी लोग जो अपना धन छुपाना चाहते हैं, वे पहले स्विस बैंक की शरण लेते थे, किन्तु अब वहाँ पैसे जमा करना मुश्किल है. उसके बाद उनके पास सोना, हीरा आदि खरीदने का विकल्प आता है, जिसकी सहायता से वे पैसे कहीं पर छुपा सकें. लेकिन ये सारी चीज़े भी प्रशासन की नज़र में आ सकती हैं. अतः अब इसके बाद बिटकॉइन आ जाने पर वे अपने पैसे से बिटकॉइन आसानी से ख़रीद सकते हैं. यह पूरी तरह से डिजिटल करेंसी है.

Cryptocurrency के जैसी ही और करेंसी।

आपने ये तो जान लिए की Cryptocurrency क्या है? या Cryptocurrency क्या होता है, आइये अब जानते हैं की क्रिप्टोकोर्रेंसी के जैसे ही और कौन-कौन सी करेंसी होती है, उनके बारे में।

  1. Bitcoin

अगर हम Cryptocurrency की बात करें और Bitcoin की बात न हो तब तो ये बिलकुल भी मुमकिन नहीं है. क्यूंकि Bitcoin दुनिया से सबसे पहला Cryptocurrency है. जिसे Satoshi Nakamoto ने 2009 में बनाया था. ये एक digital currency है जिसे की केवल online ही goods और services खरीदने के लिए इस्तमाल किया जाता है. यह एक De-centrallized currency है जिसका मतलब है की इसपर Government या कोई भी institution का कोई भी हाथ नहीं है. अगर हम आज की बात करें तो इसका मूल्य अब काफी बढ़ गया है जो की अब लगभग 13 Lacks के करीब है एक coin का मूल्य. इससे आप इसके वर्तमान के महत्व के बारे में पता लगा सकते हैं.

2. Red Coin

बिटकॉइन के अलावा भी अन्य कई क्रिप्टो करेंसी हैं जिनका उपयोग विशेष अवसरों पर किया जा सकता है जिसमें से एक है “रेड कॉइन”। इसका उपयोग लोगों को टिप देने के लिए किया जाता है।

3. Light Coin

इसका अविष्कार वर्ष 2011 में हुआ था. यह भी नामित कॉइन की ही तरह डीसेंट्रलाइज्ड तकनीक की सहायता से कार्य करता है. इसकी सहायता से बिटकॉइन अधिक तेज़ कार्य होता है.

4. Voise coin

यह उभरते हुये संगीतकारों के लिए तैयार किया गया एक ऐसा मंच है जहां गायक अपने संगीत का स्वयं मूल्य निर्धारण कर सकते हैं। वे मुफ्त में संगीत का सैंपल ट्रैक प्रदान कर सकते हैं। साथ ही, मंच पर संगीत उत्साही और उपयोगकर्ताओं से समर्थन भी प्राप्त कर सकते हैं। इस मंच का मुख्य उद्देश्य स्वतंत्र कलाकारों का मुद्रीकरण करना है। 

5. Zcase

Zcash, 2016 के उत्तरार्ध में लॉन्च किए गए एक विकेन्द्रीकृत और ओपन-सोर्स क्रिप्टोक्यूरेंसी का वादा करता है। “अगर बिटकॉइन पैसे के लिए HTTP की तरह है, तो zcash HTTPS है,” खुद को परिभाषित करने के लिए एक अनुरूप zcash का उपयोग होता है।

6. Libra

लिब्रा कॉइन फेसबुक की बनाई गई डिजिटल करेंसी है. फेसबुक लिब्रा के लिए एक वॉलेट विकसित कर रही है, जिससे इसे स्टोर किया जा सकेगा। क्रिप्टोकरेंसी के रूप में लोग लिब्रा को खरीद व बेच सकेंगे।

7. Monero

यह भी एक प्रकार की क्रिप्टो करेंसी है जिसमें विशेष प्रकार की सिक्योरिटी का उपयोग किया जाता है। इसे रिंग सिग्नेचर नाम से जाना जाता है। इसका उपयोग डार्क वेब और ब्लॉक मार्केट में बहुत अधिक होता है। इसकी सहायता से स्मगलिंग की जाती है। इस करेंसी से कालाबाजारी आसानी से की जा सकती है।

यदि हम क्रिप्टो करेंसी की ग्रोथ के बारे में बात करें तो इसमें इन्वेस्टमेंट करना काफी फायदे का सौदा होता है। आज मार्केट में लगभग 1000 प्रकार की क्रिप्टो करेंसी मौजूद है और इन सभी कॉइन्स की कीमत लॉन्चिंग के समय ना के बराबर थी। हालांकि कुछ ही सालों में इनकी कीमत 1000 डॉलर तक भी पहुंच गई है। अब आप बिटकॉइन को ही ले लीजिए। जब बिटकॉइन लांच हुआ था तब दुनिया भर में रोजाना 1 करोड़ डॉलर की ट्रांजैक्शन होती थी जिसमें 1 डॉलर भी बिटकॉइन की ट्रांजैक्शन नहीं की जाती थी। लेकिन आज के समय में बिटकॉइन की 1 हफ्ते में 1 ट्रिलियन डॉलर की ट्रांजैक्शन की जा रही है जबकि पूरी दुनिया में फिजिकल करेंसी की हफ्ते भर की ट्रांजैक्शन लगभग 70 ट्रिलियन डॉलर की हो जाती है। 1 डॉलर की कीमत से शुरू हुआ बिटकॉइन आज 1200 डॉलर की कीमत तक पहुंच चुका है।

Cryptocurrency के क्या फायदे हैं?

  • क्रिप्टो करेंसी का सबसे बड़ा फायदा उन लोगों को होता है जो अपना धन छुपाकर रखना चाहते हैं। इसलिए क्रिप्टो करेंसी पैसे छुपाकर रखने का सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म बनकर उभरा है।
  • क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है जिसमें धोखाधड़ी की उम्मीद बहुत कम होती है।
  • क्रिप्टो करेंसी को कोई अथॉरिटी कंट्रोल नहीं करती जिसके चलते नोटबंदी और करेंसी का मूल्य घटने जैसा खतरा किसी के सामने नहीं आता।
  • अधिकतर क्रिप्टो करेंसी के वॉलेट उपलब्ध हैं जिसके चलते ऑनलाइन खरीदारी, पैसे का लेन-देन सरल हो चुका है।
  • क्रिप्टो करेंसी पूरी तरह से सुरक्षित है। बस आपको उसके लिए ऑथेंटिकेशन रखने की आवश्यकता होती है, क्योंकि ऐसी करेंसी ब्लॉकचेन पर आधारित है।
  • कई देश ऐसे हैं जहां कैपिटल कंट्रोल नहीं है। मतलब कि यह बात तय ही नहीं है कि देश से बाहर कितना पैसा भेजा जा सकता है और कितना मंगवाया जा सकता है।
  • अधिक पैसा होने पर क्रिप्टो करेंसी में निवेश करना फायदेमंद है क्योंकि इसकी कीमतों में बहुत तेजी से उछाल आता है।

Cryptocurrency के क्या नुकसान हैं?

  • इसका उपयोग गलत कामों के लिए जैसे हथियार की खरीद-फरोख्त, ड्रग्स सप्लाई, कालाबाजारी आदि में आसानी से किया जा सकता है।
  • क्रिप्टो करेंसी का सबसे बड़ा नुकसान तो यही है कि इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है, क्योंकि इसका मुद्रण नहीं किया जा सकता।
  • इसका एक और नुकसान यह है कि यदि कोई ट्रांजैक्शन आपसे गलती से हो गया तो आप उसे वापस नहीं मंगा सकते हैं जिससे आपको घाटा होता है।
  • यह काफी खतरनाक भी हो सकता है। चौथा, इसको हैक करने का भी खतरा बना रहता है।
  • Cryptocurrency में एक बार transaction पूर्ण हो जाने पर उसे reverse कर पाना असंभव होता है क्यूंकि इसमें वैसे कोई options ही नहीं होती है.
  • इसको कंट्रोल करने के लिए कोई देश, सरकार या संस्था नहीं है जिससे इसकी कीमत में कभी बहुत अधिक उछाल देखने को मिलता है।

तो दोस्तों अब आपको समझ में आगया होगा की Cryptocurrency क्या है? और ये कैसे काम करता है, अगर आपको कोई चीज़ जो की Cryptocurrency के बारे में हो, या फिर आप हमसे कुछ पूछना चाहते हों तो आप निचे दिए गए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, हम आपकी मदद करने की पूरी कोसिस करेंगे।

Also Read:- Cardless Cash Withdrawal from ICICI Bank

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here