6 बार की विश्व मुक्केबाज विजेता MC Mary Kom का जीवन परिचय

0
1922

MC Mary Kom:-

एक खिलाड़ी जिसकी शानदार उपलब्धियों पर पूरे भारत को गर्व है | मैरी कॉम – एक भारतीय महिला मुक्केबाज | मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम जिसे मैरी कॉम (Mary Kom) या मैग्निफिएंट मैरी (Magnificient Mary) के नाम से जाना जाता है, 24 नवम्बर 2018 को महिला मुक्केबाजी में इतिहास रच दिया, जब JD Jadhav Hall में 10वीं विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में छठा विश्व championship gold अपने नाम किया | छ: बार की world amateur boxing champion, अपनी सभी आश्चर्यजनक उपलब्धियों के विपरीत बहुत ही शांत स्वाभाव की हैं |

एक गरीब परिवार में पैदा हुईं, बहुत कम उम्र में ही उन्होंने खेतों में काम करके अपने माता-पिता की मदद करना शुरू कर दिया था | स्कूल के समय में वह विभिन्न प्रकार के खेल-हॉकी, फुटबॉल और Athletics खेलती थी-लेकिन मुक्केबाजी नहीं | जब मणिपुरी मुक्केबाज डिंगको सिंह ने 1998 में एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता, तब मुक्केबाजी ने मैरी कॉम को प्रेरित किया |

सामाजिक मानकों के अनुसार मुक्केबाजी को “मर्दाना” लोगों का एक खेल माना जाता था ऐसे में युवा जनजातीय लड़की के लिए मुक्केबाजी करना आसान काम नहीं था | लेकिन मैरी निराश होने वालों में से नहीं थीं, और एथलेटिक्स में ट्रेनिंग करने के लिए इम्फाल चली गई | आज उनकी सफलता सभी को देख रहे हैं | मैरी कॉम सिर्फ एक सफल पेशेवर मुक्केबाज अलावा भी बहुत कुछ है- वह युवाओं को मुफ़्त मुक्केबाज़ी भी सिखाती है |

यह भी पढ़ें:-

बचपन और प्रारंभिक जीवन:-

  • उनका जन्म कंगैथी, मणिपुर, भारत में हुआ था | उनके पिता का नाम मंगल टोंपा कॉम और माता का नाम मांगटे अखम कॉम था जो गरीब मजदूर थे | उन्हें जन्म में मैंगते चंग्नेइजैंग नाम दिया गया था जिसका स्थानीय बोली में अर्थ है “समृद्ध” | हालांकि, आसानी से उच्चारण के लिए वह अपने पेशेवर करियर में मैरी नाम का उपयोग करती हैं |
  • वह अपने चार भाई बहनों में सबसे बड़ी हैं और अपने परिवार की आर्थिक स्थिति सही न होने की वजह से एक छोटी उम्र से उन्हें कड़ी मेहनत करनी पड़ी | अपने स्कूल के दिनों में वह न केवल अध्ययन के लिए स्कूल गई, बल्कि अपने छोटे भाई-बहनों का ख्याल भी रखा और अपने माता-पिता के साथ खेतों में काम करने में भी मदद की |
  • प्रारंभिक स्कूलिंग Loktak Christian Model High School में हुई, जहां उन्होंने कक्षा 6वीं तक पढ़ाई की थी इसके पश्चात St. Xavier Catholic School में गई | हालांकि, उन्होंने स्कूली शिक्षा पूरी करने से पहले अध्ययन छोड़ दिया |
  • एक छात्र के रूप में उन्होंने Athletics में गहरी दिलचस्पी दिखाई और फुटबॉल जैसे खेल में भाग लेने की कोशिश की | हालांकि, छात्र के रूप में उन्होंने कभी भी मुक्केबाजी में हिस्सा नहीं लिया |
  • वर्ष 1998 में, मुक्केबाज डिंगको सिंह ने एशियाई खेलों में स्वर्ण जीता और अपनी मातृभूमि को गर्व महसूस करवाया | इस घटना ने उन्हें मुक्केबाजी के लिए प्रेरित किया |
  • मैरी ने इम्फाल की यात्रा की और मणिपुर राज्य के मुक्केबाजी के कोच, एम नरजीत सिंह से उन्होंने प्रशिक्षित करने का अनुरोध किया | वह इस खेल के बारे में भावुक थी और एक त्वरित शिक्षार्थी थी; दूसरों के चले जाने के बाद भी वह देर रात तक अभ्यास करती रहती थीं |

MC Mary Kom का Career:-

  • उनके करियर की पहली जीत वर्ष 2000 में आई जब उन्होंने मणिपुर में women’s boxing championship में प्रथम राज्य स्तर के निमंत्रण में सर्वश्रेष्ठ बॉक्सर (Best Boxer) का पुरस्कार जीता |
  • इसके बाद उन्होंने पश्चिम बंगाल में आयोजित Seventh East India Women’s Boxing Championship में स्वर्ण पदक जीता |
  • शानदार खेल और खेल के प्रति निरंतर जुनून का प्रदर्शन करते हुए उन्होंने वर्ष 2000 से 2005 के मध्य कुल पांच बार National Championships जीती |
  • वर्ष 2001 से 2006 के बीच, उन्होंने AIBA world boxing championship तीन बार क्रमशः 2002, 2005 और 2006 में जीती, और 2001 में दुसरे स्थान पर रहीं |
  • वर्ष 2008 में, उन्होंने भारत में आयोजित एशियाई महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भाग लिया जहां उन्होंने रजत पदक जीता | उसी वर्ष उन्होंने चीन में AIBA women’s world boxing championship में भाग लिया जहां उन्होंने स्वर्ण पदक अर्जित किया- चैंपियनशिप में यह उनका लगातार चौथा स्वर्ण पदक था |
  • इसके पश्चात वे वह वियतनाम गई जहां से वह 2009 एशियाई इंडोर खेलों में स्वर्ण पदक जीत के लौटीं |
  • कजाखस्तान में मैरी ने 2010 में एशियाई महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता |
  • इसके पश्चात वह अपने करियर का मील का पत्थर पंजीकृत करने के लिए बारबाडोस चली गई जहाँ उन्होंने-AIBA women’s world boxing championship में लगातार पांचवां स्वर्ण अपने नाम किया |
  • उन्होंने 2010 के एशियाई खेलों में 51 किग्रा वर्ग में भाग लिया और कांस्य पदक जीता | वर्ष 2012 में मंगोलिया में आयोजित एशियाई महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप में उसी वर्ग श्रेणी में भाग लिया और स्वर्ण जीता |
  • वर्ष 2012 में, लंदन में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में पहली बार महिलाओं की मुक्केबाजी को ओलंपिक खेलों के रूप में शामिल किया गया था। मैरी ने ओलंपिक खेलों में अपनी जगह हासिल की और कांस्य पदक जीता |
  • वर्ष 2014 में दक्षिण कोरिया के इचियन में आयोजित एशियाई खेलों में उन्होंने Flyweight श्रेणी में स्वर्ण पदक जीता |

MC Mary Kom के जीवन की उपलब्धियां और पुरस्कार:-

  • वह 6 बार की World Amateur Boxing Champion के रूप में जानी जाती हैं यह उपलब्धि उन्हें निश्चित रूप से अब तक की सबसे सफल महिला मुक्केबाजों में से एक बनाती है |
  • मैरी कॉम को खेल में उनके योगदान के लिए वर्ष 2010 में भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया था |
  • खेल के क्षेत्र में उनकी अद्भुत उपलब्धियों के लिए उन्हें वर्ष 2013 में भारत के तीसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था |
  • उन्होंने वर्ष 2014 इचियन एशियाई खेलों में फ्लाईवेट श्रेणी में स्वर्ण पदक जीता |

MC Mary Kom का व्यक्तिगत जीवन:-

  • उनकी मुलाकात वर्ष 2001 में ओनलर कॉम से हुई जब वह पंजाब में आयोजित राष्ट्रीय खेलों में भाग लेने के लिए नई दिल्ली के रास्ते जा रही थीं | ओनलर कॉम युवक मैरी के धैर्य और महत्वाकांक्षाओं से बहुत प्रभावित हुए |
  • चार साल के रिश्ते के बाद वर्ष 2005 में यह जोड़ा शादी के गठबंधन में बंध गया | उन्हें तीन बेटों का आशीर्वाद मिला है |
  • उनकी बहुत प्रतीक्षित आत्मकथा, ‘Unbreakable‘ को वर्ष 2013 में हार्पर कॉलिन्स द्वारा जारी किया गया था जिसमे उन्होंने अपने जीवन के सभी संघर्षों और उनसे उबरने की पूरी कथा कही है |

MC Mary Kom से जुडी कुछ अन्य बातें:-

  • मैरी कॉम ने हाई स्कूल की पढाई बीच में ही छोड़ दी थी, हालांकि बाद में उन्होंने वैकल्पिक तरीके से अपनी स्कूली शिक्षा और यहां तक ​​कि स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी की |
  • उनकी सबसे बड़ी प्रेरणा डिंगको सिंह थी जिन्होंने 1998 एशियाई खेलों में मुक्केबाजी में स्वर्ण पदक जीता था |
  • एक युवा बॉक्सर लड़की के रूप में करियर बनाने में उन्हें अपने माता-पिता के विरोध का सामना करना पड़ा |
  • वह ओलंपिक में जगह बनाने और पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय महिला मुक्केबाज है |
  • लगातार छह विश्व चैम्पियनशिप में पदक जीतने वाली मैरी एकमात्र महिला मुक्केबाज है |
  • एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली वह पहली भारतीय महिला मुक्केबाज हैं |
  • वर्ष 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों के लिए स्टेडियम में चल रहे उद्घाटन समारोह में वह संजय और हर्षित जैन के साथ, Queen’s Baton बनीं |
  • मैरी कॉम पद्म भूषण जीतने वाली पहली amateur athlete है | वह पहली शौकिया एथलीट है जो कमाई, अनुमोदन और पुरस्कारों के मामले में भारत के कई पेशेवर एथलीटों से भी आगे है |
  • वह पशु अधिकारों की समर्थक है, और पशु अधिकार संगठन, PETA India से जुड़ी हुई है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here