असम सरकार की Wage Compensation Scheme

0
1802

Wage Compensation Scheme:-

असम सरकार चाय के बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलाओं के लिए मजदूरी मुआवजा योजना (Wage Compensation Scheme) की पेशकश करने वाला पहला भारतीय राज्य बन गया है | इस योजना के तहत, राज्य सरकार गर्भवती महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य और पोषण की खुराक प्रदान करेगा | इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं को 12,000/- रुपये की मुआवजा राशि दी जाएगी ताकि वह खुद और बच्चे का ख्याल रख सकें |

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं द्वारा सामना किए जाने वाले मुद्दों का समाधान करने के लिए यह निर्णय लिया गया है  | यह योजना चाय बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलाओं को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करेगी | इस मजदूरी मुआवजे योजना से लगभग 60,000 महिलाओं को लाभान्वित होने की उम्मीद है |

गर्भवती महिलाओं के लिए इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य चाय उत्पादक क्षेत्रों में मातृ और नवजात मृत्यु दर को कम करना है |

Wage Compensation Scheme की मुख्य विशेषताएं:-

  • इस योजना के तहत राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी चाय के बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलाओं को बेहतर स्वास्थ्य और पोषण की खुराक प्रदान की जा रही है | यह योजना चाय बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलाओं को पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने पर जोर देगी |
  • चाय के बागानों में काम करने वाली गर्भवती महिलाओं को 12,000/- रुपये की राशि मुहैया कराए जाएंगे ताकि परिवार की आजीविका से समझौता किए बिना उसे खुद और नवजात शिशु की देखभाल करने में सक्षम बनाया जा सके |
  • चाय के बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलाओं को मुआवजा 4 तिमाही किश्तों में प्रदान किया जाएगा – पहली तिमाही में 2,000/- रुपये, दूसरी तिमाही में 4,000/- रुपये, संस्थागत डिलीवरी के लिए तीसरी तिमाही में 3,000/- और बच्चे के जन्म के पंजीकरण के लिए चौथी तिमाही में 3,000/- रुपये |
  • चाय के बागानों में काम कर रही गर्भवती महिलायें भी प्रसूति छुट्टी प्राप्त करने में सक्षम होंगी | इन महिलाओं को गर्भावस्था के तीसरे तिमाही और चौथी तिमाही (गर्भावस्था के 3 महीने बाद) में किसी भी तरह के काम में शामिल होने की आवश्यकता नहीं है |
  • ऐसी सभी गर्भवती महिलाओं को पूर्व-प्रसव देखभाल और बच्चे के टीकाकरण के पहले चक्र के लिए भी सहायता प्रदान की जाएगी|

इस मजदूरी मुआवजे योजना से लगभग 60,000 महिलाओं को लाभान्वित होंगी | इस योजना का मुख्य उद्देश्य चाय उत्पादक क्षेत्रों में मातृ मृत्यु दर (MMR) और नवजात मृत्यु दर को कम करना है |

Wage Compensation Scheme की आवश्यकता क्यों पड़ी:-

राज्य सरकार ने इस योजना को शुरू करने का फैसला किया है क्योंकि असम के चाय के बागानों में महिलाओं की मातृ मृत्यु दर बहुत अधिक है | वार्षिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2012-13 में, राज्य मृत्यु दर सबसे ज्यादा थी | इसमें प्रति 1,00,000 जीवित जन्मों में लगभग 300 मातृ मृत्युएं शामिल हैं | राज्य में चाय के बागानों में मातृ मृत्यु दर (MMR) भी अधिक था जो 404 के रूप में दर्ज किया गया था | वर्ष 2014-16 के दौरान मातृ मृत्यु दर (MMR) का राष्ट्रीय औसत 130 दर्ज किया गया था|

इसके अलावा, 15 से 49 वर्ष की उम्र के बीच की लगभग 50% गर्भवती महिलाएं एनीमिक नामक बीमारी से प्रभावित होती हैं जो उच्च मातृ मृत्यु दर (MMR) का मुख्य कारण है | असम के चाय उत्पादन क्षेत्रों में नामांकित श्रमिकों में अधिकांश महिलाएं हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here