फॉर्म 26AS क्या है ? इसे क्यों जारी किया जाता है |

0
1962
फॉर्म 26AS क्या है
फॉर्म 26AS क्या है, Full information

इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) फाइल करने की आखिरी तारीख करीब आ चुकी है | अगर आप भी ITR फाइल करने की तैयारी कर रहे हैं तो आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि फॉर्म 26AS आपके लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है |

भारत में कर चोरी की संस्कृति को खत्म करने के लिए आयकर विभाग कड़ी मेहनत कर रहा है | देश में आयकर रिटर्न फाइलिंग प्रणाली (Income tax return filing system) में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न टूल्स (tools) और फॉर्म्स (forms) प्रस्तुत किए गए हैं |

हाल ही में, आयकर विभाग ने इस वित्त वर्ष 2020-21 से एक संशोधित फॉर्म 26AS या वार्षिक सूचना विवरण लॉन्च किया है | इस फॉर्म में करदाताओं द्वारा किए गए सभी उच्च मूल्य के लेनदेन का विवरण होगा. आइये आपको बताए की फॉर्म 26AS क्या है।

फॉर्म 26AS क्या है:-

यह आपका सालाना टैक्स स्टेटमेंट है | आप अपने पैन नंबर की मदद से इसे इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट से निकाल सकते हैं | अगर आपने अपनी आमदनी पर टैक्स चुकाया है या आपको हुई कमाई पर किसी व्यक्ति/संस्था ने टैक्स काटा है तो उसका जिक्र भी आपको फॉर्म 26AS में मिल जाता है |

फॉर्म 26 AS में स्रोत पर कर कटौती (TDS) और स्रोत पर कर संग्रह (TCS) का ब्यौरा होता है | अब इस फॉर्म में संपत्ति और शेयर लेनदेन की सूचना को भी शामिल किया गया है |फॉर्म 26 AS में आपके द्वारा सरकार को दिए गए कर के बारे में जानकारी होती है |

यदि आपने अपनी आय पर कर का भुगतान किया है या किसी व्यक्ति / संस्थान ने आपकी कमाई पर कर काटा है, तो आपको फॉर्म 26 AS में भी इसका उल्लेख करना होगा | अतः आप फॉर्म 26 AS की मदद से अपनी आय और कर के बारे में विवरण जान सकते हैं |

फॉर्म 26AS आपका वार्षिक कर विवरण है | आप इसे अपने पैन नंबर की मदद से आयकर विभाग की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं | यह फ़ॉर्म करदाताओं द्वारा किए गए सभी उच्च-मूल्य के लेनदेन के विवरण को दर्शाएगा | पहले कर अधिकारियों को बैंकों जैसे वित्तीय संस्थानों से यह जानकारी मिलती थी |

फॉर्म 26AS क्या है

आपके चुकाए गए कर और टैक्स रिफंड का विवरण फॉर्म 26AS में न सिर्फ आपके सरकार को चुकाए गए कर की जानकारी होती है, बल्कि अगर आपने अधिक टैक्स चुका दिया है और आप उसका रिफंड फाइल करना चाहते हैं तो इस बारे में भी उसमें जिक्र होता है |

अगर आपको किसी वित्त वर्ष में आयकर रिफंड मिला है तो इसमें उसका भी विवरण होता है | बतौर कर्मचारी आपको समय-समय पर ट्रेसेज (TRACES) की वेबसाइट पर फॉर्म 26AS चेक करने की जरूरत है | अगर आपके TDS से पैन नंबर जुड़ा हुआ है तो आप इस वेबसाइट पर टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट देख सकते हैं | ट्रेसेस की वेबसाइट पर यह सुविधा मुफ्त उपलब्ध है |

फॉर्म 26AS क्यों शुरू किया गया:-

इसकी शुरूआत के पीछे मूल उद्देश्य उच्च मूल्यों के लेनदेन के बारे में जानकारी प्राप्त करना है | ध्यान रहे कि यह फॉर्म पहले से ही मौजूद है लेकिन अब आयकर दाताओं की सुविधा के लिए इसमें कुछ परिवर्तन किया गया है |

इससे करदाताओं को ‘Income Tax Return’ फाइल करने में आसानी होगी | करदाता को फॉर्म के जरिए वित्तीय लेनदेन याद रहेगा और ITR दाखिल करते समय उसके पास एक अनुमान पहले से ही तैयार होगा |

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने कहा कि आयकर विभाग; अचल संपत्ति की बिक्री / खरीद, बैंक के बचत खातों से नकद जमा / निकासी, शेयरों की खरीद, शेयरों की पुनर्खरीद, डिबेंचर, समय जमा, विदेशी मुद्रा, क्रेडिट कार्ड से भुगतान, म्यूचुअल फंड की खरीद, वस्तुओं और सेवाओं के लिए नकद भुगतान, इत्यादि के बारे में जानकारी, “विशिष्ट संस्थानों” जैसे बैंक, रजिस्ट्रार या उप-रजिस्ट्रार, म्यूचुअल फंड, और बांड जारी करने वाले संस्थानों से प्राप्त करता था |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here