उत्तरप्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना 2020 के बारे में विस्तार से जानें

0
1173
उत्तरप्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना 2020

उत्तरप्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना 2020:-

उत्तरप्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना 2020– उत्तर प्रदेश सरकार फिर से गोबर और कचरे से ऊर्जा उत्पन्न करने की योजना पर विचार कर रही है | निर्मल भारत अभियान के तहत राज्य के 30 जिलों में ऊर्जा का उत्पादन किया जाएगा | बायोगैस संयंत्र (Biogas Plant), ग्राम पंचायत स्तर पर खाद और सोखना गड्ढों से तैयार किया जाएगा | उत्तर प्रदेश में, “बायोगैस संयंत्र सब्सिडी योजना (Biogas Plant Subsidy Yojana)” सरकार द्वारा पशुधन अपशिष्ट को ऊर्जा के रूप में उपयोग करने के लिए संचालित की गई है |

राज्य में लगभग 4 लाख 80 हजार पशुधन हैं, जिनसे लगभग 1200 लाख टन अपशिष्ट पदार्थों का उत्पादन होने का अनुमान है | इन अपशिष्ट पदार्थों को ग्रामीणों द्वारा पूरी तरह से उपयोग नहीं किए जाने के कारण मच्छर, पतंगे, पतंगे आदि पैदा होते हैं | जो पर्यावरण प्रदूषण का कारण बनता है |

पांच सदस्यों के परिवार के लिए दो समय का भोजन बनाने और 4-5 घंटे के लिए दीपक जलाने के लिए कम से कम 50 किलोग्राम / दिन गोबर की आवश्यकता होती है | जिसमें गाय के गोबर के अलावा जानवरों के मल, मुर्गियों की बीट और फसल के अवशेष (कचरे) का भी इस्तेमाल किया जाता है | इन अपशिष्ट पदार्थों का उपयोग ग्रामीणों द्वारा खाना पकाने के लिए किया जाता है | इसके बावजूद, गोबर का एक बड़ा हिस्सा बर्बाद हो जाता है |

बायोगैस संयंत्र के रूप में पशुधन अपशिष्ट का उपयोग ऊर्जा के साथ-साथ जैविक खाद्य भी पैदा करता है | जो फसलों के उत्पादन के लिए सबसे अच्छा भोजन है | किसान, डेयरी संगठन, पोल्ट्री फार्म संचालक आदि “बायोगैस संयंत्र सब्सिडी योजना (Biogas Plant Subsidy Yojana)” का लाभ उठा सकते हैं |

बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना का कार्यान्वयन:-

पंचायती राज निदेशालय के आदेश के अनुसार, योजना के कार्यान्वयन के लिए लाभार्थियों का चयन ग्राम पंचायतों में किया जाएगा | इसमें केवल उन लाभार्थियों का चयन किया जाएगा, जो योगदान के रूप में कुल लागत का 40% स्वयं खर्च कर सकते हैं | शेष 60 प्रतिशत खर्च योजना के तहत प्रदान किया जाएगा | केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा गोद लिए गए बेंती गांव में ऊर्जा के लिए गोबर गैस प्लांट लगाने की योजना शुरू कर दी गई है |

उत्तरप्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना 2020

किसानों के जीवन में गोबर गैस संयंत्र की उपयोगिता बहुत महत्वपूर्ण है | इसका उपयोग ईंधन, गाय के गोबर और उर्वरक के रूप में किया जाता है | अब तक किसान गोबर को खुले में रखते हैं, जो सूखने पर खेतों में बिखर जाता है | इसके कारण किसानों के खेतों में कई तरह की बीमारियाँ फैल जाती हैं क्योंकि सूखे गोबर में कई तरह के कीड़े लग जाते हैं | जो फसल और खेत के लिए हानिकारक हैं |

बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना के लिए पात्रता मानदंड:-

  • इस सब्सिडी योजना का लाभ लेने के लिए उत्तर प्रदेश का निवासी होना अनिवार्य होगा |
  • आवेदक के पास प्रतिदिन 5 से अधिक मवेशियों के अनुसार 18.25 टन गोबर की वार्षिक व्यवस्था होनी चाहिए या कम से कम 50 किलोग्राम गोबर होना चाहिए |
  • 13 फीट के dome के साथ 25 फीट अतिरिक्त जगह होनी चाहिए | ताकि बायोगैस संयंत्र स्थापित करने के बाद, इससे निकलने वाले बायोगैस घोल को रखने की व्यवस्था की जा सके |
  • गौशाला या डेयरी संस्थान इस योजना का लाभ उठाने के लिए पात्र हैं |
  • राज्य के पोल्ट्री फार्म संचालक भी योजना के लाभ के लिए आवेदन कर सकते हैं |

बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया:-

आवेदकों को UPNEDA (Uttar Pradesh New and Renewable Energy Development Agency) के कार्यालय से संपर्क करना होगा |

  • योजना की स्थिति को पूरा करने पर, निरीक्षण UPNEDA विभाग के अधिकारी द्वारा किया जाता है |
  • इसके बाद, विभाग बायोगैस संयंत्र स्थापित करने के लिए मंजूरी देता है |
  • बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना के तहत सब्सिडी की राशि आवेदक को मिलती है |

उत्तर प्रदेश बायोगैस प्लांट सब्सिडी योजना की राशि:-

इस योजना के तहत नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (Ministry of Renewable Energy) द्वारा अनुमोदित मानचित्र के अनुसार बायोगैस संयंत्र स्थापित करने के लिए नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (Ministry of Renewable Energy) द्वारा अनुदान राशि प्रदान की जाती है :

  • 5 मवेशियों से लगभग 50 किलोग्राम / दिन गोबर का उपभोग करके 2 घन मीटर क्षमता का बायोगैस संयंत्र स्थापित किया जा सकता है | इस संयंत्र को स्थापित करने में 22 हजार रुपये का खर्च आता है | जिसमें से राज्य सरकार द्वारा सामान्य जाति के लाभार्थियों को 9 हजार रुपये और अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को 11 हजार रुपये की सब्सिडी प्रदान की जाती है |
  • 2 क्यूबिक मीटर क्षमता वाले बायोगैस प्लांट से एक जेनरेटर चलाने से 5 व्यक्तियों का परिवार भोजन और दीपक 5 घंटे जला सकता है | इसके अतिरिक्त, 6 टन जैविक भोजन सालाना प्राप्त किया जा सकता है |
  • वहीं, 150 पशुओं से प्राप्त गोबर से 85 क्यूबिक मीटर क्षमता का बायोगैस संयंत्र स्थापित किया जा सकता है | जिसके साथ 10 किलोवाट क्षमता का बायोगैस जनरेटर चलाया जा सकता है | इससे हर दिन 100 यूनिट बिजली के साथ 267 टन जैविक भोजन प्राप्त होता है |
  • इसके लिए पहले चरण में 40,000 रुपये और दूसरे चरण में 30,000 रुपये की सब्सिडी राशि प्रदान की जाती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here