ऐसा क्या हो गया की MS Dhoni को मैच के बीच में आगया अंपायर पर गुस्सा

0
865
MS Dhoni

MS Dhoni को मैच के बीच में आगया अंपायर पर गुस्सा

स्क्वायर-लेग अंपायर ब्रूस ऑक्सेनफोर्ड द्वारा रद्द किए गए एक नो-बॉल निर्णय ने IPL चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी की गुस्से वाली प्रतिक्रिया को आकर्षित किया, जो राजस्थान के खिलाफ खेल खत्म होने के दौरान दो अंपायरों से स्पष्टीकरण लेने के लिए खेल के मैदान में उतरे थे.

अंपायर ने पहले तो इस गेंद को नो बॉल करार देने के लिए हाथ बढ़ाया लेकिन बाद में हाथ वापस खींच लिया। ऐसे में मैदान पर कन्फ्यूजन पैदा हो गई। सबको लगा कि चेन्नई के लिए नो बॉल वरदान साबित होगी। लेकिन जब मैदान में उपस्थित दोनों अंपायरों ने कहा कि ये नो बॉल नहीं है तो गुस्से में आग बबूला धोनी जडेजा और सेंटनर का साथ देने मैदान में पहुंच गए। उन्होंने गुस्से में अंपायर से बहस की और जब उस गेंद को नो बॉल नहीं दिया गया तो गुस्से में मैदान के बाहर चले गए।

इस घटना के बाद बेन स्टोक्स द्वारा अंतिम ओवर की चौथी गेंद पर CSK के साथ 8 रन की आवश्यकता थी 3 बालों पर. स्टोक्स के प्रयास की Ms dhoni गेंद फुलटॉस में बदल गई और उन्हें सीधे अंपायर उलेहा गांधे ने नो-बॉल करार दिया। CSK के बल्लेबाज मिचेल सेंटनर और रवींद्र जडेजा दो रन के साथ, फ्री-हिट फॉलो करने के साथ समीकरण 5 से 3 तक कम हो जाना चाहिए था, लेकिन ऑक्सफोर्ड ने स्क्वायर लेग पर अंपायर ने मूल निर्णय को खारिज कर दिया, जिससे CSK ने जोरदार प्रतिक्रिया व्यक्त की।

Dream 11 में अपनी ड्रीम टीम कैसे बनाये और मैच जीतें

ऐसा Ms Dhoni के करियर में पहली बार देखा गया जब धोनी आपा खो बैठे हों। इसके बाद वो नियमों के खिलाफ मैच के दौरान बीच मैदान पर अंपायरों से बहस करने पहुंच गए। धोनी ने करियर में पहली बार ऐसी शर्मनाक हरकत की जिसे देखकर हर कोई अचरज में पड़ गया। हालांकि अंतिम गेंद में सेटनर ने छक्का जड़कर चेन्नई को 4 विकेट से जीत दिला दी। यदि इस विवादित निर्णय की वजह से सीएसके को हार का सामना करना पड़ता तो ये बात बहुत आगे तक जाती। 

धोनी अंपायरों से बात करने के लिए मैच के बीच में चले गए और मूल नो-बॉल कॉल के बारे में अंपायर से बहस करने लगे। अंपायरों ने थर्ड-अंपायर का हवाला दिए बिना कहा कि फुल-टॉस कमर से ज्यादा ऊंचा नहीं होगा और CSK को दो छक्के की जरूरत होगी। हालांकि, मिशेल सेंटनर ने फिर आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर खेल को अपने पक्ष में कर लिया।

यदि मैच रेफरी धोनी की कार्रवाई को आचार संहिता के प्रति असंतोष दिखाने या डराने-धमकाने से संबंधित आचार संहिता के उल्लंघन में होता है, तो CSK के कप्तान पर जुर्माना नहीं लग सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here