राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2021 के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

0
1651
राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना
राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2021:-

Indira Gandhi Maternity Nutrition Scheme या इंदिरा गांधी मातृत्व पोषन योजना (Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana) राजस्थान सरकार द्वारा 19 नवंबर 2021 को शुरू की गई है | इस योजना में, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान में गर्भवती महिलाओं को 6,000 रुपये की सहायता राशि प्रदान करने की घोषणा की है |

यह 6000 रुपये की सहायता राशि दूसरे बच्चे के जन्म पर पांच चरणों में प्रदान किए जाएंगे | इस योजना के प्रथम चरण के तहत, राज्य के 4 जिलों की गर्भवती महिलाओं को किश्तों में 6,000 रुपये की वित्तीय सहायता मिलेगी |

इंदिरा गांधी मातृत्व पोषन योजना (Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana) की शुरूआत महिला सशक्तीकरण की दिशा में राजस्थान सरकार द्वारा उठाया गया एक अहम कदम है। स्वस्थ एवं पोषित बच्चे देश का भविष्य हैं | गर्भवती महिला को उचित पोषण मिलेगा तो बच्चा भी स्वस्थ पैदा होगा |

मातृत्व पोषण योजना की किश्तें / राशि:-

राजस्थान में इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2021 के तहत सहायता राशि वितरण के लिए 5 चरण होंगे:-

  • पहली किश्त 1000 रुपये – गर्भावस्था, स्क्रीनिंग और पंजीकरण |
  • दूसरी किश्त 1000 रुपये – कम से कम दो जांचें |
  • तीसरी किश्त 1000 रुपये – संस्थागत प्रसव पर |
  • चौथी किश्त 2000 रुपये – बच्चे के जन्म के 105 दिन बाद तक सभी नियमित टीकों पर |
  • पांचवीं किश्त 1000 रुपये – दूसरे बच्चे के जन्म के 3 महीने के भीतर परिवार नियोजन के साधनों को अपनाने पर |

1 नवंबर 2021 को पैदा हुए दूसरे बच्चे के समय 4 जिलों में गर्भवती महिला लाभार्थियों को सहायता राशि प्रदान की जाएगी |

पोषण योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन:-

अन्य मातृत्व लाभ योजनाओं जैसे कि पीएम मातृ वंदना योजना /PM Matru Vandana Yojana (PMMVY), की तरह ही राज्य सरकार योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र आमंत्रित कर सकते हैं | राजस्थान सरकार आधिकारिक वेबसाइट https://rajasthan.gov.in/Pages/default.aspx पर या एक नए समर्पित पोर्टल पर इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना पंजीकरण फॉर्म आमंत्रित कर सकते हैं |

अभी ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है | जैसे ही इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना ऑनलाइन आवेदन फार्म भरने की प्रक्रिया शुरू होती है, हम इसे यहां अपडेट करेंगे |

Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana

योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:-

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, गर्भवती महिला और उसके बच्चों को चार जिलों उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा और प्रतापगढ़ में मदद मिलेगी | गर्भवती महिला और उसके बच्चे को पर्याप्त पोषण के लिए इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत सहायता प्रदान की जा रही है | गर्भवती महिला और उसके बच्चे को पर्याप्त पोषण के लिए इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना के तहत सहायता प्रदान की जा रही है | इसके लिए, उद्देश्य आवेदकों को निम्नलिखित दस्तावेज दिखाने होंगे |

  • आधार कार्ड
  • अन्य आईडी संबंधित दस्तावेज जैसे राशन कार्ड, वोटर आईडी
  • बैंक खाते या पोस्ट ऑफिस अकाउंट पासबुक की फोटो कॉपी
  • 4 हालिया पासपोर्ट साइज फोटो |

मातृत्व पोषण योजना के चरण 1:-

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना चरण 1 को 4 आदिवासी बहुल (सबसे पिछड़े) जिलों में शुरू किया गया है जिनके नाम इस प्रकार हैं:-

  • उदयपुर
  • डूंगरपुर
  • बांसवाड़ा
  • प्रतापगढ़ |

इन 4 जिलों को मातृ एवं शिशु पोषण संकेतकों की रैंकिंग के आधार पर चुना गया है | बाद में, इसे पूरे राज्य में चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा |

इस योजना की घोषणा इस वर्ष के राज्य बजट में की गई थी | फिलहाल यह योजना मातृ एवं शिशु पोषण संकेतकों पर बनी रैंकिंग के आधार पर प्रदेश के चार अत्यधिक पिछड़े टीएसपी जिलों उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ में शुरू की गई है | राज्य सरकार इसे चरणबद्ध रूप से पूरे प्रदेश में लागू करेगी |

राजस्थान इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना

योजना के लाभार्थी:-

राज्य में 77,000 से अधिक महिलाओं को इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना से लाभान्वित किया जाएगा | राजस्थान सरकार इंदिरा गांधी मातृ पावन योजना के सफल कार्यान्वयन के लिए प्रति वर्ष 43 करोड़ रुपये की राशि खर्च करेगा | मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के नाम पर इस योजना को ऐतिहासिक बताया है | यह योजना महिला सशक्तीकरण की दिशा में राजस्थान सरकार का एक महत्वपूर्ण कदम है |

खदान और भूविज्ञान विभाग के तहत राज्य खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट द्वारा वित्त पोषण किया जाएगा | योजना के उद्घाटन पर, चार जिलों के 2,000 लाभार्थियों को पहली किस्त के रूप में 1,000 रुपये के चेक दिए गए थे | राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 के प्रावधानों की अनुपालना में जिस भावना के साथ राज्य सरकार ने द्वितीय प्रसव के समय महिलाओं के लिए यह योजना शुरू की है उसे ध्यान में रखते हुए परिवार के लोग गर्भवती एवं धात्री महिला तथा बच्चे के पोषण का पूरा ख्याल रखें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here