प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के तहत घर लेने से पहले जानें जरूरी बातें

0
673
PM Awas Yojana Gramin
प्रधानमंत्री आवास योजना

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY):-

प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) में हाल में किये गए बदलाव के बाद लोगों की रूचि इसमें बढ़ने लगी है | सस्ते घरों की योजना को बिल्डर भी बढ़ावा देने में जुट गए हैं और इससे सरकार की ब्याज सब्सिडी का फायदा उठाने वाले लोग भी उत्साहित हैं | जल्द कमाई के लिए निवेश करने या रहने के लिए घर लेने, दोनों तरह के लोगों के लिए रियल एस्टेट सेक्टर से जुडी चिंताएं अपनी जगह मौजूद हैं | पजेशन में देरी और घरों की आपूर्ति बढ़ने जैसी कई चीजें हैं जो इस सेक्टर के लिए बाधा के रूप में सामने खड़ी हैं |

इस बीच प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) में ब्याज पर सब्सिडी वास्तव में रुपये के संदर्भ में है | पुराने निर्देश 3 लाख रुपये तक कमाने वाले आर्थिक रूप से कमजोर तबके (इडब्ल्यूएस यानी EWS) और 6 लाख रुपये तक आय वाले कम आमदनी वाले ग्रुप (एलआईजी यानी LIG) को ध्यान में रखकर तैयार किये गए थे | सब्सिडी के लिए दो नए स्लैब तैयार करने के बाद इस दायरे में 12 और 18 लाख रुपये तक कमाई वाले लोग भी शामिल हो जायेंगे | लोन की रकम से उलट सब्सिडी की रकम सबके लिए फिक्स्ड है |

कौन उठा सकता है PMAY का लाभ:-

PMAY का लाभ उठाने के लिए आवेदक की उम्र 21 से 55 साल होनी चाहिए | हालांकि, अगर परिवार के मुखिया या आवेदक की उम्र 50 साल से अधिक है तो उसके प्रमुख कानूनी वारिस को होम लोन में शामिल किया जायेगा |

आय का प्रमाण:

  • वेतन पाने वाले लोगों के लिए वेतन प्रमाण पत्र, फार्म 16, या इनकम टैक्स रिटर्न (ITR)
  • अपना काम करने वाले लोगों के लिए 2.50 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी के लिए आय प्रमाण पत्र के रूप में हलफनामा प्रस्तुत किया जा सकता है | अगर सालाना आमदनी 2.50 लाख रुपये से अधिक है तो उसके लिए आमदनी का उचित सबूत प्रस्तुत करना जरूरी है |

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के तहत सरकारी सब्सिडी:-

  • 6.5 फीसदी की क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी सिर्फ 6 लाख रुपये तक के लोन पर उपलब्ध है |
  • 12 लाख रुपये तक की सालाना कमाई वाले लोग 9 लाख रुपये तक के लोन (PMAY) पर 4 फीसदी ब्याज सब्सिडी का लाभ उठा पाएंगे |
  • इसी तरह 18 लाख रुपये तक की सालाना कमाई वाले लोग 12 लाख रुपये तक के लोन (PMAY) पर तीन फीसदी ब्याज सब्सिडी का लाभ उठा पाएंगे |
  • इस रकम के अलावा लिया गया कोई भी लोन आम लोन की तरह ट्रीट किया जायेगा और उस पर साधारण तरीके से ब्याज देना होगा | सभी स्लैब में लोन की अधिकतम अवधि 20 साल होगी |

PMAY के तहत सरकारी सब्सिडी की रकम:-

PMAY में ब्याज सब्सिडी ब्याज की रकम का अंतर (वास्तविक और सब्सिडी प्राप्त) नहीं होगी | यह ब्याज सब्सिडी की रकम का नेट प्रजेंट वैल्यू (एनपीवी या NPV) होगी | यह नौ फीसदी के डिस्काउंट रेट पर कैलकुलेट की जाएगी | किसी सब्सिडी की NPV की गणना करने के लिए आपको लोन के लिए चुकी जाने वाली राशि और और हर मासिक क़िस्त में ब्याज की रकम पर ध्यान देने की जरूरत है |

PMAY में सब्सिडी की रकम से आपके लोन की रकम घट जाती है और इस तरह आप पर ब्याज का बोझ कम हो जाता है | ब्याज सब्सिडी की गणना कैसे की जाती और यह आपके लोन पर कैसे लागू होगा, इसे समझते हैं :

I. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी 6 लाख रुपये है |

  • (लोन की अधिकतम रकम छह लाख रुपये: सब्सिडी: 6.5 फीसदी)
  • लोन की वास्तविक राशि: 6 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 5,398 रुपये
  • 20 सालों में कुल ब्याज: 6.95 लाख रुपये
  • 6.5 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,67,000 रुपये हो जायेगा |

यही ब्याज सब्सिडी सरकार PMAY में लोगों को उपलब्ध करा रही है | इस हिसाब से आपका लोन वास्तव में 6 लाख रुपये की जगह 3,33,000 रुपये हो जाता है | यह ध्यान रखें कि कर्ज लेने वाले ने नौ फीसदी सालाना के हिसाब से लोन लिया है | यह इसलिए घट जाता है क्योंकि ब्याज सब्सिडी की राशि कर्ज लेने वाले के एकाउंट में पहले ही डाल दी जाती है | इसका असर घटी हुई मासिक क़िस्त और ब्याज के कम बोझ के रूप में सामने आती है:

  • लोन की संशोधित रकम : 3.33 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 2,996 रुपये
  • 20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 3.86 लाख रुपये
  • मासिक क़िस्त में बचत : 2,402 रुपये
  • ब्याज में कुल बचत: 3,08,939 रुपये

II. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी 12 लाख रुपये है |

  • (लोन की अधिकतम रकम नौ लाख रुपये: सब्सिडी: 4 फीसदी)
  • लोन की वास्तविक राशि: 9 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 8,098 रुपये
  • 20 सालों में कुल ब्याज: 10.43 लाख रुपये
  • 4 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,35,000 रुपये हो जायेगा |
  • लोन की संशोधित रकम : 6.65 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 5,983 रुपये
  • 20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 7.70 लाख रुपये

III. मान लेते हैं कि किसी व्यक्ति की आमदनी 18 लाख रुपये है |

  • (PMAY लोन की अधिकतम रकम 12 लाख रुपये: सब्सिडी: 3 फीसदी)
  • लोन की वास्तविक राशि: 12 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 10,796 रुपये
  • 20 सालों में कुल ब्याज: 13.91 लाख रुपये
  • 3 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,30,000 रुपये हो जायेगा.
  • लोन की संशोधित रकम : 9.7 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 8,727 रुपये
  • 20 सालों में चुकाया गया कुल ब्याज: 11.24 लाख रुपये
  • मासिक क़िस्त में बचत : 2,069 रुपये
  • ब्याज में कुल बचत: 2,66,649 रुपये |

वास्तव में ब्याज दर नौ फीसदी से अलग भी हो सकते हैं | इस समय एमसीएलआर पर आधारित होम लोन की दरें 6.5 फीसदी के करीब हैं | इस वजह से ब्याज दर और मासिक क़िस्त कम हो सकती हैं | इस योजना का लाभ उठाने के लिए योग्यता संबंधी मसले चेक कर लें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here