पटवारी कैसे बनें? – How to Become Patwari

0
388
पटवारी कैसे बनें

‘लेखपाल’ के नाम से मशहूर पटवारी राजस्व विभाग के अधिकारी हैं, इस पद पर नियुक्त व्यक्ति गांवों में तैनात है ,दोस्तों पटवारी के अंतर्गत एक या एक से अधिक गांव आते हैं।

हेलो दोस्तों ,आज मैं आपको बताने जा रहा हूं कि पटवारी कैसे बनें और पटवारी बनने के लिए क्या करें आज के समय में हर युवा की पहली पसंद सरकारी नौकरी पाना और सरकारी नौकरी में अपना करियर बनाना होता है।

स्कूली पढ़ाई के साथ-साथ हम सरकारी नौकरी की तैयारी भी करते हैं, लेकिन उसमें सफलता हर किसी को नहीं मिल पाती, इसका कारण यह हो सकता है कि उन छात्रों को उस नौकरी के बारे में सही जानकारी न हो।

मैंने कई बार देखा है कि जब पटवारी का आवेदन आता है तो सभी लोग उसके लिए आवेदन करते हैं और अन्य नौकरियों की तुलना में पटवारी के पद के लिए अधिक आवेदन भरे जाते हैं, भले ही उसके लिए आवेदन कम हो, ऐसे में सभी को सफलता नहीं मिलती है और कुछ ही लोगों को सफलता मिलती है।

आज मैं आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने जा रहा हूँ, अगर आप पटवारी बनना चाहते हैं तो आपके लिए यह ज़रूरी है कि आप इसके लिए कड़ी मेहनत करें क्योंकि इस पद के लिए बहुत प्रतिस्पर्धा है, इस वजह से आप उसमें मेहनत करने से ही सफलता मिलती है।

पटवारी कैसे बनें –

दोस्तों प्रत्येक राज्य में पटवारी के रूप में चयन एक विशेष परीक्षा के माध्यम से किया जाता है। यह लिखित परीक्षा कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन मोड में आयोजित की जाती है। लिखित परीक्षा में 5 खंड होते हैं; सामान्य ज्ञान, मात्रात्मक योग्यता, हिंदी, पंचायती राज प्रणाली और कंप्यूटर आदि।

परीक्षा का पूरा पेपर 100 अंकों का होता है लिखित परीक्षा में उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त अंकों के आधार पर एक मेरिट सूची तैयार की जाती है और फिर राज्य की आधिकारिक वेबसाइट पर प्रकाशित की जाती है। जिन उम्मीदवारों का नाम मेरिट सूची में आता है, उन्हें दस्तावेज सत्यापन के बाद प्रशिक्षण के लिए भेजा जाता है।

पटवारी की नौकरी की भूमिका –

पटवारी के काम के बारे में तो आप जानते ही होंगे, जिस काम के लिए सरकार पटवारी की नियुक्ति करती है, पटवारी का काम इस प्रकार है।

•             भूमि/भूमि मानचित्र का रिकार्ड रखना

•             आय प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र

•             भूमि का नामांकन और हस्तांतरण

•             किसी भी भूमि संबंधी आपदा के बारे में सरकार को सूचित करना

•             विवाद की स्थिति में भूमि की सही माप

•             भूमि की बिक्री और खरीद का विवरण रखना

•             बुजुर्गों और विकलांगों की पेंशन शुरू

•             इसके अलावा भी कई अलग-अलग कार्य हैं जो एक पटवारी को करने होते हैं और उनके छोटे-बड़े कार्य इतने अधिक होते हैं कि उनके बारे में बताना बहुत मुश्किल हो जाता है और मुख्य रूप से उनका कार्य भूमि से संबंधित होता है।

पटवारी बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता –

पटवारी पद के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से 12वीं पास होना चाहिए और उम्मीदवार ने आरएस-सीआईटी (कंप्यूटर डिप्लोमा) किया हो तभी आप पटवारी के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

कई राज्यों में अब शैक्षणिक योग्यता बारहवीं के बजाय स्नातक स्तर की कर दी गई है।

•             पटवारी बनने के लिए आपके पास 10वीं, 12वीं पास की मार्कशीट होनी चाहिए।

•             पटवारी बनने के लिए आपके पास स्नातक की डिग्री भी होनी चाहिए।

•             आपके पास सरकारी मान्यता प्राप्त संस्थान से 1 साल का कंप्यूटर डिप्लोमा (DCA, PGDCA) और CPCT सर्टिफिकेट भी होना चाहिए। हालांकि, अगर छात्र के पास वैध दस्तावेज नहीं है, तो वे इसे चयन के दो साल के भीतर जमा कर सकते हैं।

•             उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए और उस राज्य का निवासी होना चाहिए जिसके लिए आप पटवारी परीक्षा के लिए आवेदन कर रहे हैं।

पटवारी बनने की आयु सीमा –

दोस्तों ,पटवारी बनने के लिए उम्मीदवार की आयु न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 38 वर्ष होनी चाहिए, 38 वर्ष से अधिक आयु के युवा पटवारी पद के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं और इसके अलावा अन्य सभी कैटेगरी जैसे एसटी एससी ओबीसी जनरल आदि के लिए अलग-अलग आयु सीमा रखी गई ह।

पटवारी की नौकरी के लिए चयन प्रक्रिया –

पटवारी बनने के लिए ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद बेसिक कंप्यूटर नॉलेज का कंप्यूटर कोर्स भी करना होगा। पटवारी के लिए कंप्यूटर डिप्लोमा जरूरी है। इसके अलावा अगर आपने बीसीए, बीएससी कंप्यूटर साइंस, बीई किया है तो आपको कंप्यूटर डिप्लोमा की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये योग्यताएं अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग हो सकती हैं।

पटवारी बनने के लिए सबसे पहले आपको अपने राज्य की आधिकारिक वेबसाइट से पटवारी की परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा। पटवारी पद के लिए 2 प्रकार की चयन प्रक्रिया होती है, जिसके आधार पर सरकार द्वारा पटवारी पद के लिए उपयुक्त उम्मीदवारों का चयन किया जाता है।

•             लिखित परीक्षा

•             साक्षात्कार

पटवारी लिखित परीक्षा यानी लिखित परीक्षा का पेपर 100 अंकों का होता है जिसमें कंप्यूटर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं। पटवारी चयन परीक्षा का पेपर हिंदी, गणित और तर्क, सामान्य ज्ञान, पंचायती राज, कंप्यूटर सहित कुल 5 विषयों या वर्गों में बांटा गया है। जिसे हल करने के लिए उम्मीदवारों को 2 घंटे का समय दिया जाता है।

पटवारी के पद के लिए प्रथम लिखित परीक्षा आयोजित की जाती है जिसमें आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार भाग लेते हैं और लिखित परीक्षा में सफल उम्मीदवारों को साक्षात्कार में शामिल किया जाता है और उनसे कुछ प्रश्न सरकारी अधिकारियों द्वारा और प्राप्त अंकों के आधार पर पूछे जाते हैं। इस में। उम्मीदवारों का चयन पटवारी के पद के लिए किया जाता है। इन दोनों परीक्षाओं को पास करने के बाद आप पटवारी की नौकरी पा सकते हैं।

पटवारी परीक्षा का सिलेबस –

अगर आप पटवारी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो आपको पटवारी चयन परीक्षा का सिलेबस भी पता होना चाहिए जो हम आपको आगे बताने जा रहे हैं:-

•             हिन्दी – पटवारी परीक्षा में सम्मिलित हिन्दी विषय से प्रश्न पूछे जायेंगे जैसे संधि, काल, मुहावरा, क्रिया त्रुटि का पता लगाना आदि।

•             पंचायत व्यवस्था – पटवारी के पंचायती राज के विषय में भारत में पंचायती राज व्यवस्था की शुरूआत, लेख आदि से संबंधित प्रश्न आते हैं।

•             गणित – पटवारी के लिए गणित विषय पर आपकी अच्छी पकड़ होनी चाहिए, जिसमें दशमलव, औसत, अनुपात, तार्किक तर्क, संख्या प्रणाली, समय और कार्य आदि से प्रश्न पूछे जाते हैं।

•             कंप्यूटर ज्ञान – पटवारी परीक्षा में कंप्यूटर का विषय बहुत महत्वपूर्ण होता है, जिसमें आपसे कंप्यूटर बेसिक्स, इनपुट और आउटपुट डिवाइसेस, एमएस वर्ड, एमएस एक्सेल, ऑपरेटिंग सिस्टम आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

•             जीके और करंट अफेयर्स – यह विषय ज्यादातर सभी परीक्षाओं में पूछा जाता है और पटवारी के लिए इसमें राज्य का सामान्य ज्ञान, भारत का इतिहास, रसायन विज्ञान, भारतीय संविधान, खेल, दिन, करंट अफेयर्स आदि विषय शामिल होते हैं।

पटवारी का मासिक वेतन –

पटवारी के पद के लिए राज्य सरकार द्वारा मासिक वेतन सभी राज्यों की सरकार के नियमों के अनुसार अलग-अलग वेतन भी दिया जा सकता है।

पटवारी नौकरी के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या पटवारी के लिए 12वीं पास बस अप्लाई कर सकते हैं?

नहीं ,किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से स्नातक की डिग्री रखने वाले उम्मीदवार पटवारी परीक्षा 2021 के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। साथ ही उम्मीदवार के पास हिंदी टाइपिंग और कंप्यूटर दक्षता के साथ सीपीसीटी स्कोरकार्ड होना चाहिए।

क्या पटवारी परीक्षा कठिन है?

पटवारी की परीक्षा न ज्यादा कठिन होती है और न ही ज्यादा आसान। परीक्षा को क्रैक करने के लिए आपको परीक्षा को क्रैक करने के लिए उन सभी महत्वपूर्ण चीजों से गुजरना होगा। अपनी ताकत और कमजोरियों को समझने के लिए ऑनलाइन मॉक टेस्ट देंते रहे।

पटवारी भर्ती पाठ्यक्रम क्या है?

पटवारी की लिखित परीक्षा में 5 खंड होते हैं; सामान्य ज्ञान, Quantitative Aptitude , हिंदी भाषा, ग्राम पंचायत प्रणाली और कंप्यूटर योग्यता आदि।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने आपको पटवारी के बारे में बताया। उदाहरण के लिए, पटवारी क्या है, इसके कार्य, पटवारी कैसे बनता है? पटवारी बनने के लिए पात्रता, भर्ती प्रक्रिया, परीक्षा की तैयारी, परीक्षा पैटर्न आदि। साथ ही, हमने आपको पटवारी का वेतन भी बताया।

हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पटवारी कैसे बने इस बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। इसके अलावा अगर आपका अभी भी इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट में बता सकते हैं।

अगर आपको पटवारी बनने के बारे में उपयोगी जानकारी मिलती है तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें, ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here