National Anti-Terrorism Day 2022: कब और क्यों मनाया जाता है आतंकवाद विरोधी दिवस

0
510
National Anti-Terrorism Day
National Anti-Terrorism Day

National Anti-Terrorism Day 2022:

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में 21 मई को राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस (National Anti Terrorism Day 2022)  मनाया जाता है | यह दिन शांति, सद्भाव और आतंकवाद जैसे वैश्विक खतरे के खिलाफ एकजुट होने की जरूरत के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है |

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा यह सिफारिश की गई है कि राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस (National Anti-Terrorism Day) अवसर के लिए एक कार्यक्रम आयोजित करते समय, चल रहे COVID-19 महामारी के मद्देनजर सामाजिक दूरी बनाए रखने, मास्क पहनने, हाथों को साफ करने आदि जैसे निवारक उपायों का पालन करना अनिवार्य है |

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस का उद्देश्य राष्ट्रीय सद्भाव को बढ़ावा देना, आतंकवाद को कम करना और सभी जाति, पंथ और लिंग के लोगों के बीच एकता को बढ़ावा देना है | जब ‘आतंकवाद’ की बात आती है तो वह दिन महत्वपूर्ण होता है |

यह दिन आतंकवादियों के कारण हुई हिंसा के बारे में जागरूकता फैलाता है | COVID-19 महामारी के कारण, इसे सावधानियों के साथ मनाया जाएगा | गृह मंत्रालय ने सलाह दी है कि ‘आतंकवाद विरोधी शपथ’ अधिकारियों द्वारा प्रतिभागियों और आयोजकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए और सार्वजनिक समारोहों से बचने के लिए अपने कमरों/कार्यालयों में ही ली जा सकती है |

National Anti-Terrorism Day 21 मई को ही क्यों मनाया जाता है:

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस (National Anti-Terrorism Day) की आधिकारिक घोषणा 21 मई 1991 को भारत के सातवें प्रधान मंत्री राजीव गांधी की हत्या के बाद की गई थी | वह तमिलनाडु में एक आतंकवादी द्वारा एक अभियान में मारा गया था |

इसके बाद वी.पी. सिंह सरकार, केंद्र ने 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है | इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और अन्य सार्वजनिक संस्थानों आदि में आतंकवाद विरोधी शपथ ली जाती है |

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी एक रैली में शामिल होने के लिए तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर गए थे | उसके सामने एक महिला आई जो एक आतंकवादी समूह लिबरेशन ऑफ तमिल टाइगर्स ईलम (LTTE) की सदस्य थी |

उसके कपड़ों के नीचे विस्फोटक थे और वह पीएम के पास गई और झुक गई जैसे कि वह उनके पैर छूना चाहती हो | अचानक एक बम विस्फोट हुआ जिसमें प्रधान मंत्री और लगभग 25 लोग मारे गए | यह अंतर्देशीय आतंकवाद है जिसने डर पैदा किया था और हमारे देश ने पीएम खो दिया |

आतंकवाद विरोधी दिवस मनाने का क्या उद्देश्य हैं:-

  • शांति और मानवता का संदेश फैलाने के लिए |
  • इन आतंकवादी समूहों के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए और कैसे वे आतंक पर हमला करने की योजना बना रहे हैं |
  • लोगों में एकता का बीज रोपकर लोगों में एकता को बढ़ावा देना |
  • साथ ही, युवाओं को शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने से वे विभिन्न आतंकवादी समूहों में शामिल होने से बचेंगे |
  • आतंकवाद, हिंसा के खतरे और लोगों, समाज और पूरे देश पर इसके खतरनाक प्रभाव के बारे में देश में जागरूकता पैदा करना |

Anti-Terrorism Day 2022: Quotes:-

“Killing innocent people in the name of God is the highest insult to God.” – Amit Ray

“Terrorism has no religion, terrorists have no religion and they are friends of no religion.” – Manmohan Singh

“The World will not Change unless You Change the World.” – Taitusi Williams Savou

“Those who concoct violence in the name of God are nothing but retarded.” – Mohith Agadi

“Terrorism will spill over if you don’t speak up.” – Malala Yousafzai

“Our values and way of life will prevail – terrorism will not.” – John Linder

“Any terrorism is an attack on liberation values.” –  P.J. O’Rourke

“Terrorism has no nationality or religion.” –  Vladimir Putin

“Terrorism is a Just Game of Violence, Remove it with Peace and Love”. – Inder Khatri

“Diversity is an aspect of human existence that cannot be eradicated by terrorism or war or self-consuming hatred. It can only be conquered by recognizing and claiming the wealth of values it represents for all.” – Aberjhani

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here