MP Board की दसवीं व बारहवीं की विशेष परीक्षा 6 सितंबर से शुरू

0
636
MP Board 10th/12th की विशेष परीक्षा

MP Board 10th/12th की विशेष परीक्षा:-

MP Board 10th/12th की विशेष परीक्षा- MP बोर्ड की 10वीं और 12वीं की विशेष परीक्षाएं 6 सितंबर यानी सोमवार से शुरू हो रही हैं | यह परीक्षा उन छात्रों के लिए है जो परिणाम से नाखुश है | इसमें कुल 18 लाख छात्रों में से 14 हजार ही छात्र शामिल हो रहे हैं | खास बात ये है कि 10वीं में कुल 9 हजार छात्रों में से मुरैना, भिंड, सतना और ग्वालियर से ही साढ़े 4 हजार छात्र बैठ रहे हैं, जबकि भोपाल और इंदौर के 700 छात्र हैं | इसी तरह 12वीं में भिंड और इंदौर में सबसे ज्यादा करीब 600 छात्र शामिल हो रहे हैं, जबकि 5 हजार में से बाकी बचे छात्र प्रदेशभर के हैं |

10वीं में करीब 10 लाख छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे | 12वीं की परीक्षा में करीब 7 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे | 10वीं की परीक्षा 6 सितंबर से लेकर 15 सितंबर तक और 12वीं की परीक्षाएं 21 सितंबर तक चलेंगी | मंडल के PRO एसके चौरसिया ने बताया कि दोनों का समय सुबह 9 बजे से 12 बजे तक रहेगा | दोनों परीक्षाएं एक साथ होंगी | परीक्षा में शामिल होने वाले छात्र एमपी ऑनलाइन के पोर्टल पर अपना प्रवेश पत्र ले सकेंगे | नियमित एवं प्राइवेट छात्रों की प्रयोगिक परीक्षाएं उन्हें आवंटित केंद्र पर परीक्षा अवधि के दौरान ही होंगी | मंडल की वेबसाइट http://www.mpbse.nic.in/ पर भी जानकारी उपलब्ध है |

इन जिलों से परीक्षा में शामिल हो रहे विद्यार्थी:- MP Board 10th/12th की विशेष परीक्षा

कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 18 लाख से ज्यादा छात्र- छात्राएं शामिल हुए थे, तो वही विशेष परीक्षा में 10वीं और 12वीं में 14000 छात्र-छात्राएं ही शामिल हो रहे है | कक्षा 10वीं में 9000 छात्रों में से मुरैना,भिंड सतना और ग्वालियर से सबसे ज्यादा साढ़े 4000 छात्र- छात्राएं बैठ रहे हैं, जबकि भोपाल और इंदौर के 700 छात्र ही विशेष परीक्षा में शामिल होंगे | कक्षा दसवीं की विशेष परीक्षा में मंडला हरदा, बुरहानपुर, बड़वानी और दमोह से सबसे कम संख्या में छात्र शामिल हो रहे हैं |

इसलिए आयोजित की जा रही है विशेष परीक्षा:-

कोरोना के कारण परीक्षा नहीं हुई थी | 10वीं और 12वीं में सभी बच्चों को पास कर दिया गया | नई प्रणाली के तहत 10वीं कक्षा के नियमित स्टूडेंट्स के लिए अर्धवार्षिक और प्री-बोर्ड व यूनिट टेस्ट और आंतरिक मूल्यांकन के अंक के आधार पर रिजल्ट तैयार किया गया है | इन परीक्षाओं में उपस्थित ना रहने वाले स्टूडेंट्स को 33 प्रतिशत अंक देकर पास किया गया | वहीं, प्राइवेट स्टूडेंट्स को भी 33 % अंक देकर पास किया गया | ऐसे में कानूनी झमेले से बचने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने रिजल्ट से नाखुश छात्रों के लिए विशेष परीक्षा का विकल्प दिया | रिजल्ट से नाखुश छात्रों को दोबारा परीक्षा देने के लिए विकल्प दिया गया था, इसलिए यह परीक्षा आयोजित की जा रही है |

लेकिन इसमें रखी गई एक शर्त के कारण अधिकतर बच्चों ने इससे दूरी बना ली है | परीक्षा में बैठने वाले छात्रों को फॉर्मूला से बनी मार्कशीट नहीं दी जाएगी | परीक्षा देने से बच्चों को रिजल्ट खराब होने की आशंका है | इस कारण छात्रों ने इससे दूरी बनाई |

यहां 10वीं के सबसे ज्यादा छात्र बैठ रहे

जिला10वीं12वीं
मुरैना2583338
भिंड1092185
सतना543166
ग्वालियर511278
रीवा36619

यहां 10वीं सबसे कम छात्र बैठ रहे

जिला10वीं12वीं
मंडला1271
हरदा1432
बुरहानपुर1422
बड़वानी2168
दमोह2197

बड़े शहरों की स्थिति

जिला10वीं12वीं
ग्वालियर511278
इंदौर344321
भोपाल249160
जबलपुर195160
सागर151112

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here