क्रेडिट स्कोर क्या है ? बिगड़े क्रेडिट स्कोर को कैसे सुधारें |

0
817
मेरा credit score क्या है
मेरा credit score क्या है

क्रेडिट स्कोर (Credit Score):-

मेरा credit score क्या है- क्रेडिट स्कोर (Credit Score) एक 3 अंकों की संख्या है जो उपभोक्ता की क्रेडिट योग्यता का मूल्यांकन करता है | यह आपके क्रेडिट इतिहास पर आधारित है जैसे ऋणों की EMI की पुनर्भुगतान (repayment of EMI of loans), क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि (credit card dues) आदि | भारत में चार क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी या क्रेडिट ब्यूरो जैसे- ट्रांसयूनियन सिबिल, इक्विफैक्स , एक्सपेरियन और CRIF हाईमार्क काम करते हैं |

इन संस्थानों को व्यक्तियों से जुड़ी वित्तीय रिकॉर्ड इकट्ठा करने और बनाए रखने और इस डेटा के आधार पर क्रेडिट रिपोर्ट / क्रेडिट स्कोर जेनरेट करने का लाइसेंस प्राप्त है | क्रेडिट रिपोर्ट और उनके द्वारा लिए गए क्रेडिट स्कोर का उपयोग बैंकों या लोन संस्थानों द्वारा किसी व्यक्ति की की वित्तीय जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है | व्यक्ति भी आसानी से नए क्रेडिट कार्ड और लोन के लिए अपनी योग्यता तय करने के लिए अपने क्रेडिट स्कोर को जान सकते हैं |

क्रेडिट स्कोर से पिछले कर्ज की जानकारी मिलती है | इसलिए बैंक से कर्ज और क्रेडिट कार्ड लेने के लिए अच्छा सिबिल स्कोर होना जरूरी होता है | नियमित कर्ज चुकाने से क्रेडिट स्कोर अच्छा रहता है | सिबिल स्कोर 300 से 900 अंकों के बीच होता है | अगर स्कोर 750 अंक या उसके का होता है तो ज्यादा पर कर्ज मिलना आसान होता है | जितना अच्छा सिबिल स्कोर होता है, उतनी ही आसानी से कर्ज मिलता है | सिबिल स्कोर 24 महीने की क्रेडिट हिस्ट्री के हिसाब से बनता है |

भारत में क्रेडिट ब्यूरो– मेरा credit score क्या है

लाइसेंस प्राप्त क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनियों (CIC) को क्रेडिट ब्यूरो के रूप में भी जाना जाता है जो व्यक्तियों से जुड़ी वित्तीय जानकारी इकट्ठा करते हैं और उस जानकारी के आधार पर क्रेडिट रिपोर्ट बनाते हैं। इन क्रेडिट रिपोर्ट का उपयोग किसी व्यक्ति के क्रेडिट स्कोर का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है, जिसका उपयोग बैंकों या लोन संस्थानों द्वारा किसी व्यक्ति को नए क्रेडिट कार्ड या लोन देते समय किया जाता है। क्रेडिट स्कोर व्यक्ति की साख तय करने में मदद करता है। भारत में  4 प्रमुख क्रेडिट ब्यूरो हैं-

  • ट्रांसयूनियन सिबिल
  • इक्विफैक्स
  • एक्सपीरियन
  • क्रिफ हाईमार्क
मेरा credit score क्या है

क्रेडिट स्कोर को कैसे समझें:-

क्रेडिट स्कोर आपकी क्रेडिट हिस्ट्री की 3 अंकों की संख्या है। यह 300 से 900 की बीच होता है और किसी व्यक्ति के क्रेडिट व्यवहार को दर्शाता है। यह 3 अंकों की संख्या प्रभावी रूप से भुगतान हिस्ट्री समेत किसी व्यक्ति के क्रेडिट हिस्ट्री को प्रस्तुत करती है; क्रेडिट कार्ड, लोन आदि के लिए आवेदन, अधिक क्रेडिट स्कोर आम तौर पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। रिपोर्ट में शामिल मुख्य जानकारी निम्नलिखित हैं:

  • क्रेडिट अंक,
  • बकाया (ड्यू) और बैलेंस समेत आपके लोन और क्रेडिट कार्ड अकाउंट की पूरी जानकारी
  • देर से भुगतान और चूक (यदि कोई हो)
  • उन संस्थाओं की लिस्ट, जिन्होंने आपकी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच की है और जांच का कारण (नया लोन / नया क्रेडिट कार्ड, आदि)
  • आपकी व्यक्तिगत जानकारी

यहां आपको यह बताया जाना चाहिए कि आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में आपकी बचत, निवेश, भुगतान या यूटिलिटी बिल इत्यादि के बारे में जानकारी शामिल नहीं है (भारत के अलावा अन्य कई देशों में क्रेडिट रिपोर्ट के विपरीत)। हर क्रेडिट इंफॉर्मेशन कंपनी – ट्रांसयूनियन सिबिल, इक्विफैक्स, एक्सपेरियन और सीआरआईएफ हाईमार्क विभिन्न स्कोरिंग मॉडल का उपयोग करके अपनी रिपोर्ट तैयार करती है।

क्रेडिट स्कोर की लिमिट 300 और 900 के बीच होती है। 900 के करीब स्कोर को आमतौर पर एक अच्छा स्कोर माना जाता है और यह किसी व्यक्ति को अधिक अनुकूल शर्तों पर क्रेडिट सुरक्षित करने में सक्षम बनाता है क्योंकि यह जिम्मेदार क्रेडिट व्यवहार को दर्शाता है। सामान्य क्रेडिट स्कोर लिमिट नीचे दी गई है:

  • खराब: 300-579
  • संतोषजनक: 580-669
  • अच्छा: 670-739
  • बहुत अच्छा: 740-799
  • सर्वोत्तम: 800-850

अपने क्रेडिट स्कोर में सुधार कैसे करें:-

आपके क्रेडिट स्कोर को सुधारने के कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं:

  • क्रेडिट मिक्स: Secured और Unsecured Loan दोनों में संतुलन बनाए रखें | पर्सनल लोन और क्रेडिट कार्ड जैसे कई Unsecured Loan होने के कारण, बैंक आपको जोखिम भरा उधारकर्ता मानते हैं और आपके क्रेडिट स्कोर को कम कर सकते हैं |
  • लोन राशि का समय पर भुगतान: समय पर अपना बकाया भुगतान करने की करें। यह एक जिम्मेदार क्रेडिट व्यवहार और भुगतान क्षमता को दर्शाता है |
  • कमियों के लिए बार-बार अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की जाँच करना : कई बार प्रशासनिक कमियों और डेटा / सूचना के धोखाधड़ी के कारण आपकी रिपोर्ट में गलत जानकारी दर्ज हो जाती है| इसलिए ये सलह दी जाती है कि आप समय-समय पर अपनी रिपोर्ट की जांच करते रहें और कोई गलत जानकारी मिलने पर तुरंत क्रेडिट ब्यूरो से संपर्क करें |
  • ज़्यादा आवेदन से बचें : बहुत कम समय के भीतर कई बार क्रेडिट कार्ड या लोन के लिए आवेदन ना करें | यह आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर हार्ड इंक्वायरी की संख्या बढ़ा सकता है और आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है |
  • कम Credit Utilization Ratio: अपने क्रेडिट उपयोग को कम करें | अपने उपलब्ध क्रेडिट लिमिट के अधिकतम 30% तक अपने क्रेडिट उपयोग को सीमित करें | उपलब्ध क्रेडिट का 30% से अधिक खर्च करना आपके क्रेडिट पर अत्यधिक निर्भरता को दर्शाता है और आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डालता है |
  • क्रेडिट लिमिट बढ़ना : कोशिश करें कि आपकी क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के लिए बैंकों से प्राप्त करें। इसका मतलब यह नहीं है कि आप अधिक खर्च करना शुरू करें या अपने खर्चों को बढ़ाएं | लेकिन इसके बजाय यह Credit Utilization Ratio को कम करने में मदद करता है क्योंकि उपलब्ध क्रेडिट लिमिट बढ़ती है लेकिन उपयोग कम रहता है | इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है |
  • डेट को सेटल न करें: अपने डेट को निपटाने से बचें | हालांकि, यह डेट के बोझ को कम कर सकता है, यह आपके डेट को चुका नहीं पाता है और इससे आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here