Chhath Puja क्यों मनाई जाती है? 2022 में छठ पूजा कब है यहाँ जाने

0
779
Chhat Puja 2022

Chhath Puja- हेलो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से जानेगे की छठ पूजा क्यों मनाई जाती है? छठ पूजा क्या है और यह पूजा कौन करता है? हो सकता है आप लोगों को छठ पूजा के बारे में पहले से ही जानकारी हो। लेकिन अभी भी बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि छठ पूजा क्यों मनाई जाती है?

अगर आप भी नहीं जानते हैं तो आज का यह आर्टिकल के माध्यम से जान जायेगे , तो बने रहिये हमारे साथ।  दोस्तों Chhath Puja हिंदू धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाने वाला एक बहुत बड़ा त्योहार है, जो लगातार चार दिनों तक मनाया जाता है। छठ पर्व को छठ पूजा, छठ, डाला छठ, छठ माई, छठ माई, षष्ठी सूर्य और षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है।

यह त्योहार मुख्य रूप से भारत के बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है, जबकि अन्य देशों की बात करें तो यह त्योहार नेपाल के तराई क्षेत्रों में भी मनाया जाता है। Chhath Puja सूर्य को समर्पित है। पौराणिक मान्यता के अनुसार छठी माता भगवान सूर्य की बहन हैं। छठ पूजा का त्योहार खासकर बिहार में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। बिहार के लोग इसे अपना सबसे बड़ा त्योहार मानते हैं और एक तरह से यह त्योहार उनकी संस्कृति बन गया है. अब बात आती है छठ पूजा क्यों मनाई जाती है?

छठ पूजा 2022 में कब है?

दोस्तों 2022 में 30 अक्टूबर, रविवार को छठ पूजा है।

छठ पूजा क्यों मनाते हैं? (Chhath Puja)

छठ पूजा उत्तर भारत में एक महत्वपूर्ण त्योहार है। छठ पूजा उत्तर भारत में एक महत्वपूर्ण त्योहार है, मुख्य रूप से बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। भक्त इन चार दिनों के दौरान हिंदू सूर्य देव, सूर्य देव की पूजा करते हैं। छठ पूजा मनाने के लिए महिलाएं 36 घंटे का निर्जला व्रत रखती हैं।

यह त्योहार सूर्य देव (भगवान सूर्य) और छठी मैया (सूर्य देव की बहन) को समर्पित है, जिनकी इस दिन पूजा की जाती है। कुछ विश्वासियों का कहना है कि छठ पूजा भी भगवान सूर्य के पुत्र और अंग देश के राजा कर्ण द्वारा की गई थी, जो बिहार में आधुनिक भागलपुर है।

एक अन्य किंवदंती के अनुसार, पांडवों और द्रौपदी ने भी पूजा की थी भगवान राम ने 14 साल के वनवास के बाद अयोध्या लौटने पर भगवान सूर्य की पूजा की थी। आमतौर पर छठ पूजा के दौरान महिलाएं व्रत रखती हैं और दिवाली के बाद त्योहार की तैयारी शुरू हो जाती है

छठ पूजा कैसे मनाई जाती है?

Chhath Puja का त्योहार मुख्य रूप से बिहार में मनाया जाता है। बिहार में यह पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। छठ पूजा उत्सव का मुख्य भाग छठ व्रत है।

छठ व्रत में भोजन के बिना भोजन और पानी रखना, कमर तक पानी में खड़े रहना, सूर्य को अर्घ्य देना, एकांत में प्रसाद ग्रहण करना, स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना आदि जैसे सख्त नियम शामिल हैं। इस दिन सूर्य उषा की दोनों पत्नियां यानी सूर्योदय और प्रत्यूषा यानी सूर्यास्त की भी पूजा की जाती है।

षष्ठी माता के लोकगीत बिहार में बहुत लोकप्रिय हैं। छठ पूजा की शुरुआत के साथ ही घरों और मंदिरों से छठ माता लोक गीतों की गूँज सुनाई देती है। छठ पूजा बिहार की परंपरा बन गई है।

छठ पूजा करते समय अनुष्ठान –

छठ पूजा के पहले दिन को नहाय खाये के नाम से जाना जाता है। पहले दिन सुबह स्नान किया जाता है और उसके बाद नए कपड़े पहनकर प्रार्थना की जाती है। इसके बाद, भक्त प्रसाद के रूप में चावल और चने की दाल का सेवन करते हैं।

दूसरे दिन को छठ खरना कहा जाता है। इस दिन रात के समय गुड़ से बना खीर प्रसाद खाया जाता है। हलवा मिट्टी के चूल्हे पर बनाया जाता है। सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद महिलाएं प्रसाद का सेवन करती हैं और 36 घंटे तक व्रत रखती हैं।

तीसरे दिन को संध्या अर्घ्य कहा जाता है। इस दिन महिलाएं नए कपड़े पहनती हैं और डूबते सूरज को अर्घ्य देने के लिए नदी या तालाब में जाती हैं। उपवास तीसरे दिन की पूरी रात तक चलता है।

छठ के चौथे और अंतिम दिन को उषा अर्घ्य के नाम से जाना जाता है। इस दिन व्रत रखने वाली महिलाएं जल में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देती हैं। इसके बाद महिलाएं प्रसाद के साथ 36 घंटे का उपवास तोड़ती हैं।

छठ पूजा का महत्व

छठ पूजा का महत्व न केवल पौराणिक दृष्टिकोण से बल्कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी माना गया है। छठ पूजा पर भगवान सूर्य की विशेष पूजा की जाती है। सूर्य की किरणें अत्यंत लाभकारी मानी जाती हैं।

छठ पूजा के त्योहार में प्राकृतिक चीजों का ही प्रयोग किया जाता है जैसे बांस, प्राकृतिक फल और फूल, गन्ने का रस आदि। छठ पूजा व्रत प्राकृतिक सुंदरता और स्वास्थ्य लाभ के लिए रखा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि महिलाएं पुत्र रत्न की प्राप्ति और पुत्र की भलाई की कामना के लिए यह व्रत रखती हैं। छठ व्रत का पालन करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। वैज्ञानिक दृष्टि से भी यह दिन विशेष माना जाता है।

निष्कर्ष –

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आज इस आर्टिकल के माध्यम से आप लोगों को छठ पूजा क्यों मनाई जाती है? छठ पूजा क्या है और यह पूजा कौन करता है? इन सभी सवालो के बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। दोस्तों फिर भी, अगर आप हमसे इस आर्टिकल से जुड़े कुछ सवाल हमसे पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हमारी टीम आपका जवाब जरूर देगी , कृपया अपने दोस्तों के साथ जरूर इस आर्टिकल को साझा करे ताकि उनको भी यह जानकारी मिल सके धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here