हरियाणा सरकार की भावांतर भरपाई योजना 2019 के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें?

0
1785
हरियाणा भावांतर भरपाई योजना

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2019:-

हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए भावांतर भरपाई योजना (Bhavantar Bharpaii Yojana) शुरू की है | इस योजना के तहत, यदि किसी भी किसान को किसी भी मंडी में उसकी उत्पादित कीमत से कम कीमत मिलती है, तो राज्य सरकार क्षतिपूर्ति या मूल्य घाटा प्रदान करेगा | यह भावांतर भरपाई योजना (Bhavantar Bharpaii Yojana) किसानों को उनकी फसलों के विविधीकरण के साथ-साथ एक न्यूनतम न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करके जोखिम को कम करने में मदद करेगी |

इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए, सभी किसानों को https://ekharid.in/Home/BhavantarBharpaiiYojana पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा | पंजीकरण, जाँच, अपील लाइनें केवल निश्चित समय के लिए खुली हैं तथा सभी किसान निर्धारित तारीखों को इस वेबसाइट पर देख सकते हैं | इसलिए, किसानों को इसी समय के दौरान ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा |

प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए किसानों को अपनी फसलों को J-फॉर्म के साथ बेचना होगा और फिर इसे फॉर्म को भावांतर भरपाई योजना पोर्टल पर अपलोड करना होगा | इसके पश्चात राज्य सरकार 15 दिनों के भीतर मुआवजा राशि को सीधे किसानों के आधार लिंक बैंक खाते में स्थानांतरित कर देगी |

Latest Update:

हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए भावांतर भरपाई योजना में 6 और फसलों (अब कुल 10 फसलों) को शामिल किया है | हरियाणा सरकार ने भावांतर भरपाई योजना में अब गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च और बैंगन को भी शामिल कर लिया है | गाजर का मूल्य 700 रुपये प्रति क्विंटल, किन्नू का मूल्य 1100 रुपये प्रति क्विंटल और मटर का मूल्य 1,100 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है |

इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा |

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना के लिए पंजीकरण प्रक्रिया:-

  • सर्वप्रथम आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट https://ekharid.in/ पर जाना होगा |
  • इसके पश्चात आवेदकों को पृष्ठ के दाहिने तरफ मौजूद “भावांतर भरपाई योजना” लिंक पर क्लिक करना होगा |
हरियाणा भावांतर भरपाई योजना, Bhavantar Bharpaii Yojana
  • इसके बाद, भावांतर भरपाई योजना किसान पंजीकरण फ़ॉर्म खोलने के लिए “किसान पंजीकरण” लिंक पर क्लिक करें |
  • दिशानिर्देश पढ़ने के बाद “Proceed for Registration” बटन पर क्लिक करें |
  • इसके बाद, उम्मीदवार भावांतर भरपाई योजना का लाभ उठाने के लिए सभी दिशानिर्देश पढ़ सकते हैं और पंजीकरण फॉर्म भर सकते हैं |
हरियाणा भावांतर भरपाई योजना
  • भावांतर भरपाई योजना के पंजीकरण की प्रक्रिया खत्म होने की बाद उम्मीदवार आधिकारिक भावांतर भरपाई योजना पोर्टल पर सीधे लॉगिन कर सकते हैं |

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2019 से जुडी महत्वपूर्ण तिथियां:-

फसलों का नामसीडिंग की अवधिसत्यापन का समयअपील / शिकायत जारी करने की तिथिफसल बेचना का समय
आलू10 अक्टूबर से 10 नवंबर 201910 अक्टूबर से 30 नवंबर 201931 दिसंबर 2019 से 15 जनवरी 2020फ़रवरी से मार्च
प्याज20 दिसंबर 2019 से 31 जनवरी 202020 दिसंबर 2019 से 28 फ़रवरी 202015 मार्च 2020 से 25 मार्च 2020अप्रैल से मई
टमाटर15 दिसंबर 2019 से 31 जनवरी 202015 दिसंबर 2019 से 28 फ़रवरी 202015 मार्च 2020 से 25 मार्च 2020अप्रैल से 15 जून
फूलगोभी15 नवंबर से 15 दिसंबर 201915 नवंबर से 31 दिसंबर 201915 जनवरी 2020 से 25 जनवरी 2020फ़रवरी से मार्च

किसान पंजीकरण के लिए क्या करें:-

  • बीज बोने की अवधि के दौरान, सभी किसानों को बागवानी विभाग के भावांतर भरपाई योजना e-पोर्टल अथवा Haryana State Agriculture Marketing Board (HSAMB) की वेबसाइट पर पंजीकरण करवाना अनिवार्य है |
  • उद्यान विभाग द्वारा पंजीकृत किसानों का क्षेत्र प्रमाणीकरण होना अनिवार्य है |
  • यदि एक किसान प्रमाणित क्षेत्र से असंतुष्ट है, तो अपील दायर करने का भी प्रावधान है |
  • निर्माता / विनिर्माण के लिए नि: शुल्क पंजीकरण की व्यवस्था है |
  • ये सभी पंजीकरण उपरोक्त उल्लिखित समय सीमा के भीतर लागू रहेंगे |
  • कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) / ई-दिशा (E-Disha) केंद्र / विपणन बोर्ड / बागवानी विभाग / कृषि विभाग और इंटरनेट कियोस्क पंजीकरण सुविधा प्रदान करेंगे |
  • उपर्युक्त तिथियों के भीतर पंजीकरण, सत्यापन, अपील जारी करना, बिक्री की अवधि मान्य है |

भावांतर भरपाई योजना के उद्देश्य:-

  • यह सुनिश्चित काना कि सब्जी की खेती करने वाले किसान किसी भी जोखिम से मुक्त हैं |
  • उपर्युक्त फसलों के लिए 48000/- रुपये से 56000/- रुपये प्रति एकड़ की निश्चित आय सुनिश्चित करना |
  • भावांतर भरपाई योजना हरियाणा के तहत टमाटर, आलू, प्याज और फूलगोभी का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करना |
  • उन किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना जिन्होंने अपनी वास्तविक खेती / उत्पादन मूल्य से कम मूल्य पर निर्धारित अवधि में अपनी फसल / सब्जी बेची है |
  • सभी भूमि मालिक, पट्टा धारक और किरायेदार इस योजना का लाभ ले सकते हैं |

भावांतर भरपाई योजना का पहला चरण:-

भावांतर भरपाई योजना के पहले चरण में राज्य सरकार ने चार फसलों को शामिल किया है | ये 4 फसलें हैं – टमाटर,आलू ,प्याज और फूलगोभी | अब भावांतर भरपाई योजना में 6 और फसलों गाजर, मटर, किन्नू, अमरूद, शिमला मिर्च और बैंगन को जोड़ा गया है | इन 10 फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य निम्नानुसार है:-

फसल का नाम समर्थन मूल्य रुपये (प्रति क्विंटल में)अनुसूचित उत्पादन (क्विंटल/एकड़)
आलू500120
प्याज650100
टमाटर500140
फूलगोभी750100
किन्नू1100 104
गाजर 700100
मटर 110050
अमरूद
शिमला मिर्च
बैंगन

Also Read:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here