26 जून – अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस जानें क्या है इस दिन कि ख़ास बात ?

0
1266

अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस (International Day against Drug Abuse and Illicit Trafficking):-

26 जून-अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस (International Day against Drug Abuse and Illicit Trafficking) एक ऐसा दिन जो मादक द्रव्यों के सेवन और अवैध व्यापार के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय विरोध का द्योतक है | यह दिवस संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रस्तावित एक अंतर्राष्ट्रीय दिवस है, जिसमें मादक द्रव्यों के सेवन के साथ-साथ नशीली दवाओं के अवैध व्यापार के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाती है | यह प्रतिवर्ष 26 जून को दुनिया भर में लाखों लोगों द्वारा मनाया जाता है |

नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समाज के विरोध की कार्रवाई को निर्धारित करने और मजबूत करने और दुनिया भर के सहयोग से समाज को मादक द्रव्यों के सेवन से मुक्त करने का दिन है | इस दिन, विभिन्न संगठन इस खतरे को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध होते हैं और शांति से अवैध दवाओं की चुनौतियों का सामना करने पर जोर देते हैं | उनका मूल सिद्धांत युवाओं की रक्षा करना और मानव जाति के कल्याण को बढ़ावा देना है |

नशीली दवाओं का दुरुपयोग क्या है:-

नशीली दवाओं का दुरुपयोग या नशीली दवाओं की लत एक मानसिक, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक समस्या है जो न केवल पूरी दुनिया के युवाओं को प्रभावित करती है बल्कि विभिन्न आयु के लोगों को भी प्रभावित करती है | यह व्यक्तियों को सामाजिक, शारीरिक, सांस्कृतिक, भावनात्मक और आर्थिक रूप से और उससे कई गुना समाज को बर्बाद करता है |

अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस

दवा जीवित मस्तिष्क पर कार्य करते हुए भय, चिंता और उनमें असुरक्षा की भावना जैसे विकारों की एक विस्तृत श्रृंखला पैदा करती है | कुछ खास दवाएं हैं जैसे निकोटीन, कोकीन, कैफीन, हीरोइन, मॉर्फिन, कैनबिस, मेथ, आदि, जो ग्रे पदार्थ हैं वे तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती हैं, जिसके परिणामस्वरूप सतर्कता और प्रतिक्रिया में वृद्धि होती है |

ऐसी दवाओं की लत से भूख और वजन में भारी कमी होती है, साथ ही कब्ज, चिंता और चिड़चिड़ापन, नींद न आना और बौद्धिक कामकाज में भी धीरे-धीरे कमी आने लगती है | ये दवाएं मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को सुस्त बनाते हैं जिससे प्रक्रिया को गति नहीं मिलती, बल्कि व्यक्ति की गतिविधियों को धीमा कर देते हैं |

नशीली दवाओं का व्यापार क्या है:-

मादक पदार्थों की तस्करी एक अंतरराष्ट्रीय अवैध व्यापार है जिसमें मूल कानूनों के अनुसार प्रतिबंधित पदार्थ का उत्पादन, खेती, प्रसार और बिक्री की जाती है | United Nations Office on Drugs and Crime (UNODC) अवैध रूप से चलने वाले इन अंतर्राष्ट्रीय दवा बाजारों के बारे में अधिक व्यापक अध्ययन करने के साथ ही प्रभावी निगरानी और शोध भी कर रहा है |

United Nations Office on Drugs and Crime (UNODC) ने अपनी ड्रग रिपोर्ट में दवाओं के बाजार का अनुमान 321.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर बताया है | एक अनुमान के अनुसार अवैध दवा व्यापार, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का लगभग 1% है | उत्तरी व्यापार मार्ग और बाल्कन क्षेत्र मुख्य नशीले पदार्थों की तस्करी वाले क्षेत्र हैं जो अफगानिस्तान को पूर्वी और पश्चिमी महाद्वीपों में अन्य अंतरराष्ट्रीय दवा बाजारों के विशाल बाजार से जोड़ते हैं |

अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस का इतिहास:-

नशीली दवाओं के सेवन और अवैध व्यापार के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस (International Day against Drug Abuse and Illicit Trafficking), 26 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाता है | वर्ष 1988 में चीन के प्रथम अफीम युद्ध के पूर्व हुमेन, ग्वांगडोंग में अफीम की तस्करी और व्यापार को नष्ट करने के लिए, लिन ज़ेक्सू के विनाश को मनाने के लिए एक तारीख (26 जून) का चयन किया गया |

7 दिसंबर 1987 को संयुक्त राष्ट्र महासभा की Drug Abuse and Illicit Trafficking पर हुई 93वीं पूर्ण बैठक में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपने 40/122 के प्रस्ताव को याद किया जिसके द्वारा इस खतरे से लड़ने का फैसला किया गया था |

अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस की इस वर्ष की थीम क्या है:-

इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस (International Day against Drug Abuse and Illicit Trafficking) की थीम ‘न्याय के लिए स्वास्थ्य, स्वास्थ्य के लिए न्याय’ (Health for Justice and Justice for Health) है | संयुक्त राष्ट्र महासभा की अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस इस वर्ष की के लिए तय की गई थीम से यही बात सामने आती है कि इस बार की थीम लोगों को उनके स्वास्थ्य के साथ न्याय करने को कह रही है |

अंतरराष्ट्रीय नशा निषेध दिवस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here